Tuesday, April 30, 2019

ALLAHABAD HIGHCOURT, URDU, TEACHER, : उर्दू शिक्षक भर्ती मामले में उर्दू डिग्रियों की वैधता पर सरकार से जवाब तलब

ALLAHABAD HIGHCOURT, URDU, TEACHER, : उर्दू शिक्षक भर्ती मामले में उर्दू डिग्रियों की वैधता पर सरकार से जवाब तलब



BED : बीएड में भारांक सर्टिफिकेट में गड़बड़ी को दुरुस्त करने का मिलेगा मौका

BED : बीएड में भारांक सर्टिफिकेट में गड़बड़ी को दुरुस्त करने का मिलेगा मौका


INNOVATIONS, CHILDREN, SCHOOL : स्कूली बच्चों में इनोवेशन स्किल बढ़ाने को तेज होगी मुहिम, पहले चरण के लिए राज्यों से प्रस्ताव मांगे

INNOVATIONS, CHILDREN, SCHOOL : स्कूली बच्चों में इनोवेशन स्किल बढ़ाने को तेज होगी मुहिम, पहले चरण के लिए राज्यों से प्रस्ताव मांगे

नई दिल्ली । स्कूली बच्चों में शोध और इनोवेशन के प्रति रुझान बढ़ाने की मुहिम अब और तेज होगी। इसके तहत प्रत्येक ब्लाक में कम से कम एक अटल टिंकरिंग लैब खोली जाएगी। फिलहाल 2020 तक ही इस काम को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। जिसमें करीब दस हजार लैब स्थापित करने की योजना है। इसके साथ ही स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षकों को भी अब इस मुहिम से जोड़ा जाएगा।

मौजूदा समय में देश में करीब तीन हजार अटल टिंकरिंग लैब स्थापित हो चुकी हैं। हालांकि इन्हें जैसा रुझान मिलना चाहिए था, वह अभी नहीं मिल सका है। यही वजह है कि इस मुहिम से शिक्षकों को भी जोड़ने की तैयारी है। ताकि वह स्कूलों की ऐसी प्रतिभाओं को पहचान कर उन्हें लैब तक पहुंचाने में मदद कर सकें। इसके तहत स्कूली शिक्षकों को प्रशिक्षित भी किया जाएगा। मानव संसाधन विकास मंत्रलय ने फिलहाल नीति आयोग के साथ मिलकर इस मुहिम को तेज करने की योजना बनाई है।

पहले चरण के लिए राज्यों से प्रस्ताव मांगे : पहले चरण में किन ब्लाकों में इन लैब को स्थापित किया जाएगा, इसे लेकर राज्यों से प्रस्ताव मांगे गए हैं। सूत्रों की मानें तो नई सरकार के गठन के साथ ही योजना पर काम शुरू हो जाएगा। वैसे तो प्रत्येकब्लाक में एक ही लैब खोलने की योजना है, लेकिन स्कूलों की संख्या ज्यादा होने पर संख्या बढ़ाई जा सकेगी।

बच्चों को किताबी दुनिया से बाहर निकालने की मुहिम : खासबात यह है कि स्कूली बच्चों को अटल टिकरिंग लैब से जोड़ने की यह मुहिम उन्हें किताबों से बाहर निकाल ऐसी दुनिया से जोड़ना है, जहां वह अपने सपने साकार कर सकते हैं।

CIRCULAR, INSPIRE AWARD, ADMISSION : सत्र 2019-20 में इन्सपायर अवार्ड योजनान्तर्गत छात्र छात्राओं के आनलाइन नामांकन कराये जाने के सम्बंध में ।

CIRCULAR, INSPIRE AWARD, ADMISSION : सत्र 2019-20 में इन्सपायर अवार्ड योजनान्तर्गत छात्र छात्राओं के आनलाइन नामांकन कराये जाने के सम्बंध में ।


ACP, CIRCULA, DIET : श्री कुंवर कमलेश वर्मा, तत्कालीन वरिष्ठ सहायक कार्यालय जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान, बलरामपुर सम्प्रति प्रशासनिक अधिकारी, कार्यालय जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान, गोरखपुर की सेवा पंजिका की द्वितीय प्रति निर्मित करने व एसीपी की स्वीकृति प्रदान किये जाने के सम्बंध में ।

ACP, CIRCULA : श्री कुंवर कमलेश वर्मा, तत्कालीन वरिष्ठ सहायक कार्यालय जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान, बलरामपुर सम्प्रति प्रशासनिक अधिकारी, कार्यालय जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान, गोरखपुर की सेवा पंजिका की द्वितीय प्रति निर्मित करने व एसीपी की स्वीकृति प्रदान किये जाने के सम्बंध में ।

Monday, April 29, 2019

PSPSA, LIC, DEMAND : परिषदीय शिक्षकों / शिक्षामित्रों की सैंकड़ो करोड़ की अनियमित जीवन बीमा प्रीमियम कटौती एवं अपर्याप्त बीमा कवर के सम्बन्ध में आवश्यक कार्यवाही हेतु PSPSA का मा0 मुख्यमंत्री को पत्र देखें

PSPSA, LIC, DEMAND : परिषदीय शिक्षकों / शिक्षामित्रों की सैंकड़ो करोड़ की अनियमित जीवन बीमा प्रीमियम कटौती एवं अपर्याप्त बीमा कवर के सम्बन्ध में आवश्यक कार्यवाही हेतु PSPSA का मा0 मुख्यमंत्री को पत्र देखें


TRANSFER : आचार संहिता के चलते 31 मई तक तबादले संभव नहीं, नीति से तबादले को चाहिए 2 महीने, अब सरकार को नए सिरे से तय करनी होगी समय सीमा

TRANSFER : आचार संहिता के चलते 31 मई तक तबादले संभव नहीं, नीति से तबादले को चाहिए 2 महीने, अब सरकार को नए सिरे से तय करनी होगी समय सीमा



CIRCULAR, IVRS, MDM : IVRS प्रणाली से सम्बंधित समस्याओं के निराकरण हेतु

CIRCULAR, IVRS, MDM : IVRS प्रणाली से सम्बंधित समस्याओं के निराकरण हेतु

Sunday, April 28, 2019

INCOMETAX : ये हैं टैक्स बचाने के बेस्ट ऑप्शन, सैलरी पाने वालों को होता है फायदा


INCOMETAX : ये हैं टैक्स बचाने के बेस्ट ऑप्शन, सैलरी पाने वालों को होता है फायदा

नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। वित्त वर्ष 2019-20 की शुरुआत हो चुकी है और इसकी शुरुआत के साथ ही नौकरी करने वाले लोग टैक्स बचाने वाले विकल्पों की तलाश में जुट गए हैं। टैक्स बचाने के लिए कई टैक्स स्लैब और किसी की सैलरी को समझना जरूरी, जिससे उसके लिए जरूरी निवेश का पता लगाया जाएगा। नौकरीपेशा लोगों के लिए ठीक प्रकार से टैक्स बचाने के लिए कई स्कीम मौजूद हैं। इनमें टैक्स-सेविंग म्यूचुअल फंड, एनपीएस, इंश्योरेंस प्रीमियम, मेडिकल इंश्योरेंस और कई चीजें शामिल हैं। हम आपको टैक्स में छूट के दावे के लिए कई तरीकों के बारे में बता रहे हैं। धारा 80सी के तहत इन निवेश और खर्च के जरिए अधिकतम 1.5 लाख रुपये पर टैक्स में छूट के लिए दावा किया जा सकता है-

पेंशन योजना: राष्ट्रीय पेंशन योजना या अटल पेंशन स्कीम में निवेश से टैक्स में छूट मिलती है। सैलरी का 10 फीसद (बेसिक+डीए) टैक्स में छूट के तहत निवेश किया जा सकता है।


राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र: किसी भी डाकघर से ये स्कीम शुरू कर सकते हैं और खुद, पत्नी या नाबालिग बच्चों के नाम पर निवेश करके टैक्स में छूट के लिए दावा कर सकते हैं।


पब्लिक प्रोविडेंट फंड: इस स्कीम में मैच्योरिटी के वक्त भी टैक्स में छूट मिलती है और सालाना मिलने वाला ब्याज भी टैक्स फ्री होता है।


फिक्स्ड डिपॉजिट: आप 5 साल के लॉक-इन पीरियड वाली एफडी पर भी टैक्स में छूट के लिए दावा कर सकते हैं। मैच्योरिटी के वक्त प्रिंसिपल राशि पर टैक्स में छूट मिलती है, लेकिन सालाना बैंकों से मिलने वाले ब्याज पर टैक्स लगता है।


फाइव ईयर पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट अकाउंट: इसमें पूरी तरह से टैक्स में छूट है, लेकिन वार्षिक मिलने वाला ब्याज टैक्स फ्री नहीं है।


होम लोन: इस पर भी टैक्स में छूट के लिए दावा किया जा सकता है।


जीवन बीमा: प्रीमियम भुगतान के लिए टैक्स में छूट मिलती है। मैच्योरिटी के वक्त मिलने वाली राशि भी टैक्स फ्री होती है।


ट्यूशन फीस: अधिकतम दो बच्चों के लिए ट्यूशन फीस के भुगतान पर टैक्स में छूट के लिए दावा किया जा सकता है। इसके लिए स्कूल के प्रमाण की जरूरत होगी। पर पूरी फीस पर टैक्स में छूट नहीं मिलेगी।


यूटीआई या म्यूचुअल फंड: इसमें निवेश के तहत टैक्स में छूट के लिए दावा किया जा सकता है।


इक्विटी शेयर या डिबेंचर: इसमें निवेश के तहत टैक्स में छूट के लिए दावा किया जा सकता है।


अन्य: सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम और सुकन्या समृद्धि अकाउंट में निवेश करके टैक्स में छूट के लिए दावा किया जा सकता है।


मेडिकल इंश्योरेंस: सामान्य के लिए 25,000 रुपये और वरिष्ठ नागरिकों के लिए 50,000 रुपये तक प्रीमियम के भुगतान पर धारा 80डी के तहत टैक्स में छूट के लिए दावा किया जा सकता है। इसके अलावा खुद, जीवनसाथी, बच्चों और माता-पिता की स्वास्थ्य जांच के लिए 5,000 रुपये छूट में शामिल हैं।


एजुकेशन लोन: एजुकेशन लोन पर 80ई के तहत टैक्स में छूट के लिए दावा किया जा सकता है।


बैंक से मिलने वाला ब्याज: बैंक से अर्जित ब्याज पर सामान्य नागरिकों को अधिकतम 10 हजार और वरिष्ठ नागरिकों को अधिकतम 50 हजार रुपये तक के ब्याज पर टैक्स में छूट मिलती है।


आश्रित व्यक्ति का रखरखाव: आश्रित व्यक्ति के रखरखाव के लिए 75,000 रुपये तक पर छूट और गंभीर विकलांगता है तो 125,000 रुपये तक के खर्च पर छूट के लिए दावा किया जा सकता है।


राहत कोष या चैरिटेबल में योगदान: राहत कोष और धर्मार्थ संस्थानों में योगदान पर धारा 80जी के तहत टैक्स में छूट के लिए दावा किया जा सकता है।


होम लोन का ब्याज: होम लोन पर ब्याज के भुगतान पर धारा 24 के तहत 2,00,000 तक पर छूट के लिए दावा किया जा सकता है।

CIRCULAR, DIRECTOR, GOVERNMENT ORDER, INSPECTION, MDM : लोक लेखा समिति की आहूत बैठक की कार्यवृत्ति के अनुपालन में निर्धारित बिंदुओं पर आवश्यक कार्यवाही हेतु समस्त बीएसए को आदेश जारी

CIRCULAR, DIRECTOR, GOVERNMENT ORDER, INSPECTION, MDM : लोक लेखा समिति की आहूत बैठक की कार्यवृत्ति के अनुपालन में निर्धारित बिंदुओं पर आवश्यक कार्यवाही हेतु समस्त बीएसए को आदेश जारी


INCOMTAX : नौकरी करने वालों के लिए बड़ी खबर, 12 मई से बदलेगा फॉर्म-16, अब जरूरी हुई ये जानकारियां

INCOMTAX : नौकरी करने वालों के लिए बड़ी खबर, 12 मई से बदलेगा फॉर्म-16, अब जरूरी हुई ये जानकारियां

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने फॉर्म 16 में बड़ा बदलाव किया है.यह फॉर्म जारी करने वाले (एम्पॉलयर) यानी कंपनियों को अब कर्मचारी के बारे में ज्यादा जानकारियां देनी होंगी.

   


इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने फॉर्म 16 में बड़ा बदलाव किया है.यह फॉर्म जारी करने वाले (एम्पॉलयर) यानी कंपनियों को अब कर्मचारी के बारे में ज्यादा जानकारियां देनी होंगी. कर्मचारी की प्रॉपर्टी से हुई कमाई, उसे दूसरे नियोक्ताओं की ओर से मिले भुगतान की डिटेल अब फॉर्म-16 में दी जाएगी. इससे आयकर विभाग को टैक्स चोरी की जांच में मदद मिलेगी. आपको बता दें  टैक्स डिपार्टमेंट की ओर से अधिसूचित संशोधित फॉर्म 12 मई 2019 को लागू हो जाएगा. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि नए फॉर्म-16 में अलग-अलग टैक्स सेविंग्स स्कीम के तहत किए गए निवेश, उससे जुड़ी कटौतियां, कर्मचारी को मिले अलग-अलग भत्तों और दूसरे स्त्रोतों से हुई आय का ब्यौरा भी शामिल होगा.

क्या होता है फॉर्म-16 कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए वित्त वर्ष खत्म होने के बाद फॉर्म-16 जारी करते हैं. इसमें कर्मचारियों के टीडीएस की जानकारी होती है. फॉर्म-16 के आधार पर ही कर्मचारी अपना इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते हैं. कंपनियां फॉर्म-16 को आमतौर पर जून महीने में जारी करती हैं.

आपको बता दें कि इनकम टैक्स विभाग वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न फॉर्म नोटिफाई कर चुका है. नौकरी करने वालों के अलावा ऐसे लोग जिनके खातों का ऑडिट नहीं होना है उन्हें 31 जुलाई तक रिटर्न फाइल करना है.ये भी पढ़ें-ITR के फॉर्म में हुआ सबसे बड़ा बदलाव! भरते वक्त अब जरूरी है ये जानकारी देना

 

क्यों हुआ फॉर्म में बदलाव- टैक्स एक्सपर्ट शरद कोहली के मुताबिक,कई बार फॉर्म-16 और रिटर्न फाइलिंग के आंकड़ों में फर्क देखा जाता है. लेकिन, नए फॉर्म के बाद कर्मचारी के निवेश और आय की सभी जानकारियां होंगी तो ऐसा नहीं होगा. जिन अलाउंस पर टैक्स छूट मिलती है वो मिलती रहेगी लेकिन नियोक्ता (कंपनियों) को सभी मदों में की जाने वाली कटौती का पूरा ब्यौरा फॉर्म-16 में देना होगा.

12 मई से होगा लागू


>> इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से अधिसूचित संशोधित फॉर्म 12 मई 2019 को प्रभाव में आएगा. इसका मतलब है कि वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न संशोधित फॉर्म 16 के आधार पर भरा जाएगा.


>> अन्य बातों के अलावा संशोधित फॉर्म 16 में बचत खातों में जमा पर ब्याज के संदर्भ में कटौती का ब्योरा और छूट एवं अधिभार (जहां लागू हो) भी शामिल होगा.
>> आयकर विभाग पहले ही वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न फॉर्म को अधिसूचित कर चुका है. 

फॉर्म 24 क्यू में भी बदलाव


नियोक्ता आयकर विभाग को यह फॉर्म देता है. इसमें अब उन गैर-संस्थागत इकाइयों का पैन नंबर भी बताना होगा जहां से कर्मचारी ने घर खरीदने या बनाने के लिए लोन लिया है.

 

MAN KI BAAT : परीक्षा की पवित्रता बरकरार रखते हुए प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में पठन-पाठन का माहौल लगातार बेहतर कैसे रखा जाए अब चुनौती....

MAN KI BAAT : परीक्षा की पवित्रता बरकरार रखते हुए प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में पठन-पाठन का माहौल लगातार बेहतर कैसे रखा जाए अब चुनौती....

कह के रहेंगे जागरण जनमत हां नहीं अब चुनौती है कि परीक्षा की पवित्रता बरकरार रखते हुए प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में पठन-पाठन का माहौल लगातार बेहतर कैसे रखा जाए। अब चुनौती है कि परीक्षा की पवित्रता बरकरार रखते हुए प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में पठन-पाठन का माहौल लगातार बेहतर कैसे रखा जाए। माधव जोशी कल का परिणाम क्या आप सुब्रमण्यम स्वामी के इस सुझाव से सहमत हैं कि जेट एयरवेज का एयर इंडिया में विलय कर दिया जाना चाहिए? कह नहीं सकते छल-कपट भरे चुनाव विभिन्न दलों की चुनाव प्रचार संबंधी गतिविधियों के साथ ही आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की जैसी खबरें लगातार आ रही हैं उससे यह नहीं लगता कि हमारे राजनीतिक दल लोकतांत्रिक तौर-तरीकों के अनुरूप चुनाव लड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अब तो यही अधिक लग रहा है कि राजनीतिक दल चुनाव संबंधी आदर्श आचार संहिता की कहीं कोई परवाह नहीं कर रहे हैं। यह स्थिति तब है जब इस संहिता का निर्माण खुद उन्होंने किया है। समस्या केवल यह नहीं है कि चुनाव प्रचार के मान्य तौर-तरीकों की जमकर अनदेखी की जा रही है, बल्कि यह भी है कि छल-कपट से चुनाव जीतने कोशिश हो रही है। पैसे बांटकर चुनाव जीतने की प्रवृत्ति किस तरह बढ़ती जा रही है, इसका प्रमाण यह है कि निर्वाचन आयोग अभी तक करीब 32 सौ करोड़ रुपये की नकदी जब्त कर चुका है। नि:संदेह यह नहीं कहा जा सकता कि निर्वाचन आयोग के अधिकारी वह सारी रकम जब्त करने में समर्थ हुए होंगे जो मतदाताओं को बांटने के लिए जमा की गई। यह भी नहीं कहा जा सकता कि उसकी सख्ती के चलते पैसे बांटने का सिलसिला थम गया है। एक समय पैसे बांटकर चुनाव जीतने की प्रवृत्ति केवल दक्षिण भारत में दिखती थी, लेकिन अब वह सारे देश में नजर आ रही है।1 चुनाव लड़ने के तौर-तरीकों में गिरावट का एक अन्य प्रमाण यह भी है कि नेता अपने विरोधियों की आलोचना करने में बदजुबान हुए जा रहे हैं। ऐसे नेताओं के खिलाफ कार्रवाई हो रही है, लेकिन लगता नहीं कि इसका असर पड़ रहा है। नेता एक-दूसरे की आलोचना करते समय केवल भाषा की मर्यादा ही नहीं तोड़ रहे हैं, बल्कि वे जाति-मजहब को भी भुना रहे हैं। कहीं जातीय आधार पर मतदाताओं को गोलबंद करने की कोशिश हो रही है तो कहीं मजहबी आधार पर। पता नहीं क्यों राजनीतिक दल यह साधारण सी बात समझने को तैयार नहीं कि अगर कुछ जातियों को गोलबंद करने की कोशिश की जाएगी तो शेष जातियां स्वत: गोलबंद होने की कोशिश करेंगी या फिर कोई उन्हें ऐसा करने के लिए कहेगा? इस बार एक और खराब बात यह भी देखने को मिल रही है कि नेता झूठ का सहारा लेने में लगे हुए हैं। वे ऐसी-ऐसी बातें कहने में कोई संकोच नहीं कर रहे हैं जिनका कहीं कोई आधार ही नहीं। इससे भी खराब बात यह है कि यदि कभी उनके झूठ को चुनौती दी जाती है तो वे यह कहकर बच निकलने की कोशिश करते हैं कि चुनाव प्रचार की गर्मी में गलत बात निकल गई। केवल इतना ही नहीं, नेता फर्जी खबरों का भी सहारा ले रहे हैं। ऐसा करके वे फर्जी खबरें गढ़ने वालों को बल ही प्रदान कर रहे हैं। वे सामाजिक माहौल में कटुता घोलने का भी काम कर रहे हैं। यह सही है कि निर्वाचन आयोग को और अधिकार संपन्न बनाए जाने की आवश्यकता है, लेकिन आखिर राजनीतिक दलों की भी कोई जिम्मेदारी बनती है। अगर वे नियम-कानूनों की अनदेखी करते हुए लोकतंत्र के बुनियादी सिद्धांतों को ताक पर रखेंगे तो फिर भारतीय लोकतंत्र और साथ ही चुनाव प्रक्रिया के मान-सम्मान की रक्षा कैसे होगी? बेहतरीन परीक्षाफल11यूपी बोर्ड के हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा परिणाम को बेहतरीन कहा जा सकता है। नकल पर सख्ती के बावजूद लगभग 70-80 फीसद परीक्षार्थियों के उत्तीर्ण होने से पहली नजर में संकेत मिलता है कि माध्यमिक विद्यालयों में पढ़ाई-लिखाई का माहौल बेहतर हुआ है। प्रदेश सरकार ने न सिर्फ नकल पर सख्ती से रोक लगाई बल्कि विद्यालयों में पढ़ाई का माहौल सुधारने का भी प्रयास किया। सुपरिणाम सामने है। बिना पढ़ाई नकलविहीन परीक्षा देकर हाईस्कूल में लगभग 80 फीसद और इंटरमीडिएट में 70 फीसद परीक्षार्थी उत्तीर्ण नहीं हो सकते। इस परीक्षा परिणाम के लिए राज्य सरकार का संपूर्ण शिक्षा तंत्र बधाई का पात्र है यद्यपि अब चुनौती है कि परीक्षा की पवित्रता बरकरार रखते हुए प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में पठन-पाठन का माहौल लगातार बेहतर कैसे रखा जाए। इसके लिए राजनीतिक नेतृत्व को नफा-नुकसान की परवाह किए बगैर सख्त रुख अख्तियार करना होगा। सबसे पहले उन विद्यालयों और शिक्षकों का सार्वजनिक अभिनंदन किया जाना चाहिए जिनके प्रयास से परीक्षा परिणाम बेहतरीन रहा। उन विद्यालयों की भी सूची सार्वजनिक की जानी चाहिए जिनका परीक्षाफल बहुत खराब रहा। यह राज्य सरकार पर है कि वह ऐसे विद्यालयों और वहां के शिक्षकों पर कार्रवाई का साहस जुटा पाती है कि नहीं। ये विद्यालय हजारों बच्चों का भविष्य बर्बाद करने के लिए जिम्मेदार हैं लिहाजा लापरवाह विद्यालयों का अनुदान तो रोक ही दिया जाना चाहिए। इस परीक्षा परिणाम का सर्वाधिक उज्ज्वल पक्ष यह है कि शिक्षा और परीक्षा प्रणाली के प्रति आम लोगों का विश्वास वापस लौटा है। आगामी सत्र में इसे और मजबूत करने के उपाय किए जाने चाहिए। अभिभावक और विद्यार्थी चाहते हैं कि परीक्षा नकलविहीन हो, पर इसके लिए साल भर पढ़ाई होना जरूरी है। शिक्षकों की जिम्मेदारी है कि वे इसे अपने लिए चुनौती के तौर पर स्वीकार करें। शिक्षक कक्षाओं में जाने लगें तो विद्यार्थी स्वत: आएंगे। सरकार को एक ऐसा मॉनीटरिंग तंत्र भी विकसित करना चाहिए जिससे स्कूलों के माहौल के बारे में फीडबैक मिल सके। पहले विद्यालयों में तिमाही और छमाही परीक्षाएं पूरी गंभीरता के साथ होती थीं। इससे विद्यार्थियों और शिक्षकों को थाह मिल जाती थी। यह प्रणाली फिर शुरू की जानी चाहिए।

LIC, TEACHERS : सूबे के कर्मचारियों और शिक्षकों की प्रीमियम राशि लौटाए एलआईसी

LIC, TEACHERS : सूबे के कर्मचारियों और शिक्षकों की प्रीमियम राशि लौटाए एलआईसी



AWARD : प्राइमरी व जूनियर हाईस्कूल के 90 शिक्षक सम्मानित, नई तकनीक और इनोवेशन के जरिए बच्चों को पढ़ाने पर मिला पुरस्कार

AWARD : प्राइमरी व जूनियर हाईस्कूल के 90 शिक्षक सम्मानित, नई तकनीक और इनोवेशन के जरिए बच्चों को पढ़ाने पर मिला पुरस्कार

लखनऊ । नई तकनीक और इनोवेशन के जरिए बच्चों को पढ़ाने वाले प्राइमरी और जूनियर स्कूल के प्रदेश भर के 90 शिक्षकों को बेसिक शिक्षा निदेशालय में उत्कृष्ट शिक्षा से सम्मानित किया गया। जिसमें निगोहां के पूर्व माध्यमिक विद्यालय की शिक्षिका ेता शुक्ला समेत लखनऊ जनपद के तीन शिक्षिकाओं को भी सम्मानित किया गया।शनिवार बेसिक शिक्षा निदेशालय में प्राइमरी और जूनियर स्कूल के प्रदेश भर के ऐसे 90 शिक्षिकों को चयनित कर सम्मानित किया गया जो नई तकनीकी स्मार्ट तरीके से शिक्षा की शुआत की और बच्चों को शिक्षा दी। इस सम्मान में लखनऊ जिले के तीन शिक्षिकों में निगोहां के लवल पूर्व माध्यमिक विद्यालय की शिक्षिका स्वेता शुक्ला, व बीकेटी की मोहनी आभा, व गोसाइगंज की शिक्षिका अजीता सिंह को उत्कृष्ट शिक्षा का सम्मान मिला। बताते चलें कि लवल जूनियर स्कूल की शिक्षिका स्वेता शुक्ला ने बताया कि वह क्लास में मैथ कॉर्नर भी बना रखी है जिसके तहत बेलन, शंकु, घनाभ, त्रिभुज, व घन, वर्ग को चित्रों के माध्यम बच्चों को शिक्षा देकर आसानी से समझाया जा सकता है। यह सम्मान बेसिक शिक्षा सचिव रूबी सिंह, निदेशक डॉ सव्रेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह, अपर शिक्षा निदेशक श्रीमती ललिता, सयुंक्त शिक्षा निदेशक गनेश कुमार, सहायक शिक्षा निदेशक अब्दुल मोबिन की उपस्थिति में प्रदान किया गया।

प्रयागराज : बेसिक शिक्षा में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए जिले की तीन शिक्षिकाओं श्वेता श्रीवास्तव, सरिता दुबे और साजिया तसनीम को शनिवार को शिक्षा निदेशालय, लखनऊ में सम्मानित किया गया। शिक्षिकाओं को यह सम्मान शिक्षा निदेशक बेसिक सवेंद्र विक्रम सिंह, बेसिक शिक्षा सचिव रूबी सिंह और अपर शिक्षा निदेशक ललिता प्रदीप ने प्रदान किया। वीडियो कांफ्रेंसिंग साक्षात्कार के जरिए सूबे के 90 शिक्षकों का चयन इसके लिए हुआ था।

Saturday, April 27, 2019

TEACHER, APPOINTMENT, RTE : स्कूलों में छात्रों के अनुपात में तैनात होंगे शिक्षक, 15 मई तक स्कूलवार छात्र और शिक्षकों की संख्या का मांगा ब्योरा

TEACHER, APPOINTMENT, RTE : स्कूलों में छात्रों के अनुपात में तैनात होंगे शिक्षक, 15 मई तक स्कूलवार छात्र और शिक्षकों की संख्या का मांगा ब्योरा
• शिक्षा का अधिकार अधिनियम-2009 के अंतर्गत प्राइमरी, जूनियर स्कूलों में होगा पदों का निर्धारण,
 15 मई तक स्कूलवार छात्र और शिक्षकों की संख्या का मांगा ब्योरा,
स्कूल का नाम, विकास खंड, 30 सितंबर 2018 तक स्कूलों में छात्र संख्या (बालक, बालिका), स्कूलों में कार्यरत प्रधान अध्यापक, सहायक अध्यापक की संख्या।
एनबीटी, लखनऊ : बेसिक शिक्षा विभाग शैक्षिक सत्र 2019-20 के लिए प्राइमरी और जूनियर स्कूलों में शिक्षकों की तैनाती शिक्षक छात्र अनुपात के अनुसार करेगा। इन स्कूलों में पदों का निर्धारण 30 सितंबर 2018 की छात्र संख्या के आधार पर आरटीई के मानक के मुताबिक होगा। इसके लिए बेसिक शिक्षा परिषद की सचिव रूबी सिंह ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी कर 15 मई तक स्कूलवार छात्र और शिक्षकों की संख्या का ब्योरा मांगा है।
राजधानी में बेसिक शिक्षा परिषद की ओर से 1839 स्कूल संचालित हो रहे हैं। इनमें सबसे ज्यादा खराब स्थिति नगर के प्राइमरी और जूनियर स्कूलों की है। इनमें कई साल से शिक्षकों की तैनाती नहीं हुई। वहीं, हर साल शिक्षक सेवानिवृत्त होते जा रहे। ऐसे में कई स्कूल ऐसे हैं जहां एक-दो शिक्षक या शिक्षामित्रों के भरोसे पढ़ाई चल रही है। अब बेसिक शिक्षा विभाग का दावा है कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम-2009 के अंतर्गत परिषदीय स्कूलों में शिक्षकों के पदों निर्धारित किएजाएगा।

FINANCE CONTROLLER, GIS, BASIC SHIKSHA : सामूहिक जीवन बीमा (GIS) की कटौती होगी वापस, बेसिक शिक्षा परिषद वित्त नियंत्रक ने मांगी जानकारी

FINANCE CONTROLLER, GIS, BASIC SHIKSHA : सामूहिक जीवन बीमा (GIS) की कटौती होगी वापस, बेसिक शिक्षा परिषद वित्त नियंत्रक ने मांगी जानकारी



BED, RESERVATION : बीएड में सामान्य वर्ग के आरक्षण पर असमंजस, अब तक शासन से जारी नहीं हुआ कोई आदेश

BED, RESERVATION : बीएड में सामान्य वर्ग के आरक्षण पर असमंजस, अब तक शासन से जारी नहीं हुआ कोई आदेश

बरेली : उत्तर प्रदेश बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा में सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को 10 फीसद आरक्षण देने पर सस्पेंस बरकरार है। आरक्षण का लाभ दिया जाए, ऐसा कोई आदेश अब तक शासन से जारी नहीं हुआ है। इससे उन अभ्यर्थियों को झटका लगा है, जो लाभ मिलने की उम्मीद लगाए थे। रुविवि के प्रोफेसरों का भी मानना है कि आरक्षण का लाभ, इस बार तो नहीं मिल पाएगा।
केंद्र सरकार ने सामान्य वर्ग के गरीब विद्यार्थियों को 10 फीसद आरक्षण देने की व्यवस्था की है। राज्य सरकार भी इसे अपने यहां लागू करने की मंजूरी दे चुकी है। एमजेपी रुहेलखंड विश्वविद्यालय प्रशासन के मुताबिक, इस पर अमल का शासन से आदेश अभी प्राप्त नहीं हुआ है। अभी प्रदेश में आचार संहिता लगी है। आरक्षण से जुड़ा कोई आदेश जारी होना संभव नहीं दिख रहा है। बीएड में 6,09,209 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। इसमें 5,66,400 ने परीक्षा दी। परीक्षा आयोजक एमजेपी रुहेलखंड विश्वविद्यालय ने 15 मई तक परिणाम घोषित करने का समय निर्धारित किया है। वेटेज प्रमाण पत्रों की जांच चल रही है। इसी माह के अंत तक आंसर-की जारी किए जाने की भी उम्मीद है। रुविवि के परीक्षा नियंत्रक प्रो. बीआर कुकरेती ने बताया कि जो भी आदेश मिलेगा उसका पालन किया जाएगा।

DELED, RESULT : डीएलएड रिजल्ट के लिए इन वेबसाइट का करें उपयोग

DELED, RESULT : डीएलएड रिजल्ट के लिए इन वेबसाइट का करें उपयोग

सचिव ने बताया कि प्रशिक्षण का रिजल्ट वेबसाइट https://www.updeledinfo.in/ पर प्रदर्शित किया गया है। ऐसे ही बीटीसी 2013, 2014 व 2015 का रिजल्ट वेबसाइट http://www.btcexam.in/ पर प्रदर्शित किया गया है।

DELED, RESULT : डीएलएड के दो सेमेस्टर की परीक्षा में 83 हजार फेल, 2017-18 का रिजल्ट, साढ़े तीन लाख से अधिक ने दिया परीक्षा

DELED, RESULT : डीएलएड के दो सेमेस्टर की परीक्षा में 83 हजार फेल, 2017-18 का रिजल्ट, साढ़े तीन लाख से अधिक ने दिया परीक्षा

प्रयागराज : प्राथमिक स्कूलों के लिए शिक्षक तैयार करने वाले डीएलएड कालेजों की पढ़ाई की कलई फिर खुल गई है। डीएलएड 2018 प्रथम सेमेस्टर व डीएलएड 2017 द्वितीय सेमेस्टर की परीक्षा में प्रदेश के 83 हजार से अधिक प्रशिक्षु फेल हो गए हैं। इम्तिहान में करीब साढ़े तीन लाख से अधिक परीक्षार्थी शामिल हुए थे। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय ने शुक्रवार देर शाम रिजल्ट जारी किया है।
परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी ने बताया कि डीएलएड 2018 प्रथम सेमेस्टर परीक्षा के लिए 1,65,371 ने पंजीकरण कराया। उनमें से 1,63,541 परीक्षा में शामिल हुए। 1830 गैरहाजिर रहे, 664 का रिजल्ट अपूर्ण है। वहीं, 1,17,622 उत्तीर्ण और 45,255 अनुत्तीर्ण हुए हैं। डीएलएड प्रशिक्षण 2017 द्वितीय सेमेस्टर की परीक्षा के लिए 1,75,398 ने पंजीकरण कराया। 1316 अनुपस्थित व 778 का रिजल्ट अपूर्ण है। 1,45,427 उत्तीर्ण और 27,875 फेल हुए हैं, वहीं दो प्रशिक्षुओं को अनुचित साधन के साथ पकड़ा गया। ऐसे ही डीएलएड प्रशिक्षण 2017 प्रथम सेमेस्टर आंशिक व अवशेष परीक्षा के लिए 44,201 ने पंजीकरण कराया, 43,398 परीक्षा में शामिल हुए। 746 गैरहाजिर व 572 का रिजल्ट अपूर्ण है। परीक्षा में 32,950 उत्तीर्ण और 9,933 अनुत्तीर्ण हुए हैं। सचिव ने बताया कि बीटीसी प्रशिक्षण 2013 प्रथम व द्वितीय सेमेस्टर आंशिक, 2014 प्रथम व द्वितीय सेमेस्टर अवशेष व आंशिक, 2015 प्रथम व द्वितीय सेमेस्टर अवशेष व आंशिक, सीटी (शिशु शिक्षा) बैच 2014, पुस्तकालय विज्ञान प्रमाणपत्र परीक्षा 2019 का भी परिणाम घोषित कर दिया गया है। प्रशिक्षु उसे वेबसाइट पर देख सकते हैं।

RESULT : राष्ट्रीय प्रतिभा खोज राज्य स्तरीय परीक्षा-2019 का पुनरीक्षित परिणाम घोषित

RESULT : राष्ट्रीय प्रतिभा खोज राज्य स्तरीय परीक्षा-2019 का पुनरीक्षित परिणाम घोषित



AWARD : सरकारी स्कूलों की तस्वीर बदलने वाले शिक्षक आज होंगे सम्मानित

AWARD : सरकारी स्कूलों की तस्वीर बदलने वाले शिक्षक आज होंगे सम्मानित

SALARY, SHIKSHAK BHARTI : 68500 शिक्षक भर्ती के 29529 नवनियुक्त शिक्षकों को मिला वेतन

SALARY, SHIKSHAK BHARTI : 68500 शिक्षक भर्ती के 29529 नवनियुक्त शिक्षकों को मिला वेतन

लखनऊ । बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में 68500 सहायक अध्यापक भर्ती में चयनित 29529 शिक्षकों को वेतन जारी हो चुका है। भर्ती के तहत शिक्षक दिवस पर पांच सितंबर 2018 को पूरे प्रदेश में 40 हजार से अधिक नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दिए गए थे। इनमें से 39779 ने कार्यभार ग्रहण किया और अब तक 29691 शिक्षकों के शैक्षणिक दस्तावेजों का सत्यापन हो चुका है।.

अपर शिक्षा निदेशक शिविर ललिता प्रदीप ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखकर 29 अप्रैल तक वेतन भुगतान की सूचना उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। अब तक की सूचना के मुताबिक बहराइच में सर्वाधिक 1389 शिक्षकों को वेतन भुगतान हुआ है। फतेहपुर में 1100, सिद्धार्थनगर 898, बाराबंकी 878, सीतापुर 778, सोनभद्र 775, चंदौली 774, उन्नाव 767, बिजनौर 748, श्रावस्ती 712, बलिया में 700 शिक्षकों को वेतन दिया जा चुका है। कई शिक्षक का सत्यापन नहीं होने के कारण बिना वेतन के पढ़ा रहे थे।

ADMISSION, RTE : आरटीई के तहत होने वाले दाखिलों में स्कूल एलॉटमेंट में मिली खामियां, बन्द स्कूलों में दे दिया दाखिला, आठ हजार आवेदन निरस्त

ADMISSION, RTE : आरटीई के तहत होने वाले दाखिलों में स्कूल एलॉटमेंट में मिली खामियां, बन्द स्कूलों में दे दिया दाखिला, आठ हजार आवेदन निरस्त



Friday, April 26, 2019

CIRCULAR, DIRECTOR, MDM, INSTRUCTION : मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत जनपद स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित समिति को मध्यान्ह भोजन योजना से सम्बंधित वर्तमान दिशानिर्देशों के क्रम में आंशिक संशोधन किये जाने के सम्बन्ध में ।

CIRCULAR, DIRECTOR, MDM, INSTRUCTION : मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत जनपद स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित समिति को मध्यान्ह भोजन योजना से सम्बंधित वर्तमान दिशानिर्देशों के क्रम में आंशिक संशोधन किये जाने के सम्बन्ध में ।


CIRCULAR, FINANCE CONTROLLER, GIS, SECRETARY : 24 अप्रैल को LIC के साथ सम्पन्न हुई वार्ता के क्रम में 31 मार्च 2014 के बाद नियुक्त शिक्षकों / कर्मचारियों के सम्बन्ध में सूचना उपलब्ध कराए जाने के सम्बन्ध में ।

CIRCULAR, FINANCE CONTROLLER, GIS, SECRETARY : 24 अप्रैल को LIC के साथ सम्पन्न हुई वार्ता के क्रम में 31 मार्च 2014 के बाद नियुक्त शिक्षकों / कर्मचारियों के सम्बन्ध में सूचना उपलब्ध कराए जाने के सम्बन्ध में ।








CIRCULAR, DIRECTOR, GRADING, TEACHING QUALITY : शिक्षा कायाकल्प - ग्रेडेड लर्निंग कार्यक्रम के अंतर्गत प्रत्येक BRP एवं DRP द्वारा निर्धारित 10 प्राथमिक विद्यालयों में से 6 में एंड लाइन वेरिफिकेशन किये जाने व डाटा को गूगल फॉर्म पर सबमिट करने का आदेश ।

CIRCULAR, DIRECTOR, GRADING, TEACHING QUALITY : शिक्षा कायाकल्प - ग्रेडेड लर्निंग कार्यक्रम के अंतर्गत प्रत्येक BRP एवं DRP द्वारा निर्धारित 10 प्राथमिक विद्यालयों में से 6 में एंड लाइन वेरिफिकेशन किये जाने व डाटा को गूगल फॉर्म पर सबमिट करने का आदेश ।

PURANI PENSION : ऐसे कर्मचारी जिनका चयन 2003 में हुआ परंतु कार्यभार ग्रहण 1/4/2004 को या उसके बाद हुआ, के पुरानी पेंशन बहाली के सम्बन्ध में।

PURANI PENSION : ऐसे कर्मचारी जिनका चयन 2003 में हुआ परंतु कार्यभार ग्रहण 1/4/2004 को या उसके बाद हुआ, के पुरानी पेंशन बहाली के सम्बन्ध में।


GOVERNMENT ORDER, GPF : दिनांक 01 अप्रैल, 2019 से 30 जून, 2019 तक जी0पी0एफ0 पर 8 प्रतिशत ब्‍याज दर

GOVERNMENT ORDER, GPF : दिनांक 01 अप्रैल, 2019 से 30 जून, 2019 तक जी0पी0एफ0 पर 8 प्रतिशत ब्‍याज दर

CIRCULAR, DIRECTOR, AWARD, SCHOOL : उत्कृष्ट विद्यालयों को राज्य स्तर पर पुरस्कृत करने हेतु नामांकन कराने की अंतिम तिथि में वृद्धि किये जाने के सम्बन्ध में आदेश जारी ।

CIRCULAR, DIRECTOR, AWARD, SCHOOL : उत्कृष्ट विद्यालयों को राज्य स्तर पर पुरस्कृत करने हेतु नामांकन कराने की अंतिम तिथि में वृद्धि किये जाने के सम्बन्ध में आदेश जारी ।



ALLAHABAD HIGHCOURT, POSTING, APPOINTMENT : 68500 शिक्षक भर्ती में एक महीने में समाप्त होगा जिला आवंटन का विवाद,  21 मई तक कोर्ट के सुरक्षित  फैसले के आने की उम्मीद। 

ALLAHABAD HIGHCOURT, POSTING, APPOINTMENT : 68500 शिक्षक भर्ती में एक महीने में समाप्त होगा जिला आवंटन का विवाद,  21 मई तक कोर्ट के सुरक्षित  फैसले के आने की उम्मीद। 

CIRCULAR, DIRECTOR, JOINING, SALARY, TEACHER, VERIFICATION : 68500 शिक्षक भर्ती के अंतर्गत योगदान / सत्यापन / वेतन भुगतान की अपडेटेड सूचना उपलब्ध कराने का आदेश, जनपदवार विवरण सह आदेश देखें ।

CIRCULAR, DIRECTOR, JOINING, SALARY, TEACHER, VERIFICATION : 68500 शिक्षक भर्ती के अंतर्गत योगदान / सत्यापन / वेतन भुगतान की अपडेटेड सूचना उपलब्ध कराने का आदेश, जनपदवार विवरण सह आदेश देखें ।



RECENT POSTS

BASIC SHIKSHA NEWS, PRIMARY KA MASTER : अभी तक की सभी खबरें/आदेश/निर्देश/सर्कुलर/पोस्ट्स एक साथ एक जगह, बेसिक शिक्षा न्यूज ● कॉम के साथ क्लिक कर पढ़ें ।

BASIC SHIKSHA NEWS, PRIMARY KA MASTER : अभी तक की सभी खबरें/ आदेश / निर्देश / सर्कुलर / पोस्ट्स एक साथ एक जगह , बेसिक शिक्षा न्यूज ●...