SUSPENSION, CLERK, TEACHER : लंबे समय से निलंबित चल रहे शिक्षक व लिपिकों पर कार्रवाई के निर्देश

SUSPENSION, CLERK, TEACHER : लंबे समय से निलंबित चल रहे शिक्षक व लिपिकों पर कार्रवाई के निर्देश


कर्मचारियों का डाटा ऑनलाइन हुआ, सर्विस बुक भी ऑनलाइन हुई, फर्जी शिक्षकों की पकड़ भी हुई लेकिन इसके बावजूद बेसिक शिक्षा की गाड़ी पटरी पर नहीं आ रही है।



अब बेसिक शिक्षा परिषद में 900 शिक्षक और लिपिकों का मामला सामने आया है जो निलम्बित तो हुए लेकिन उनके खिलाफ कोई अनुशासनिक कार्रवाई नहीं की गई। परिषद के सचिव प्रताप सिंह बघेल ने इस पर नाराजगी जताई और तत्काल प्रभाव से कार्रवाई करने के निर्देश देते हुए रिपोर्ट मांगी है। इनमें 300 लिपिक और 600 शिक्षक हैं। ये निलंबित होने के बाद  खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय से सम्बद्ध हैं लेकिन इनके खिलाफ कोई अनुशासनिक कार्रवाई नहीं की गई।


बघेल ने कहा है कि नियम है कि निलम्बन के बाद आरोप पत्र देकर जांच रिपोर्ट के आधार पर संबधित कर्मचारी या शिक्षक के खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई की जाती है। उन्होंने कहा कि 15 दिनों के भीतर ऐसे सभी निलम्बित शिक्षकों के मामले में रिपोर्ट भेजी जाए। वहीं, लिपिकों के खिलाफ यदि कार्रवाई चल रही है तो उसे निस्तारित करते हुए रिपोर्ट भेजी जाए। बेसिक शिक्षा परिषद के कार्यालयों में सम्बद्धीकरण, निलम्बन और फिर तैनाती की कार्यप्रणाली हमेशा से विवादित रही है।

Post a Comment

0 Comments