SHIKSHAK BHARTI, COUNSELING : 69000 भर्ती में सूची जारी होते ही काउंसलिंग के लिए विभिन्न जनपदों को रवाना होंगे अभ्यर्थी, काउंसलिंग स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए जारी दिशा-निर्देश

SHIKSHAK BHARTI, COUNSELING : 69000 भर्ती में सूची जारी होते ही काउंसलिंग के लिए विभिन्न जनपदों को रवाना होंगे अभ्यर्थी, काउंसलिंग स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए जारी दिशा-निर्देश


प्रयागराज। परिषदीय विद्यालयों में 69 हजार शिक्षक भर्ती के लिए जिला आवंटन की सूची सोमवार को जारी कर दी जाएगी। काउंसलिंग तीन से छह जून तक आयोजित की जाएगी। ऐसे में जिला आवंटन की सूची जारी होते ही अभ्यर्थियों को काउंसलिंग के लिए संबंधित जिलों की ओर रवाना होना होगा। काउंसलिंग स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद की ओर से जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। 


शिक्षक भर्ती में न्यूनतम अर्हता अंक पाने वाले अभ्यर्थियों ने अपने आवेदन में वरीयता क्रम में 75 जिलों के विकल्प भरे हैं। जिला आवंटन की सूची जारी होने के बाद प्राप्तांक, भारांक और वरीयता के आधार पर तय हो जाएगा कि अभ्यर्थियों को काउंसलिंग के लिए किस जिले में जाना है। जिन अभ्यर्थियों की काउंसलिंग तीन जून को होगी, उन पर काउंसलिंग स्थल पर पहुंचने के लिए सबसे अधिक दबाव होगा। अगर कोई दूर का जिला आवंटित होता है तो अभ्यर्थियों के पास वहां पहुंचने के लिए दो दिनों का वक्त होगा, जबकि चार, पांच एवं छह जून की काउंसलिंग में शामिल होने के लिए अभ्यर्थियों को थोड़ा अतिरिक्त समय मिल जाएगा।


 प्रयास यही होगा कि काउंसलिंग वाले दिन ही नियुक्ति पत्र दे दिया जाएगा और अगर ऐसा नहीं हो सकता तो अभ्यर्थियों को इसके लिए अगले दिन का इंतजार करना होगा। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद विजय शंकर मिश्र की ओर से जारी दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि कोरोना वायरस से बचाव के मद्देनजर काउंसलिंग स्थल पर सोशल डिस्टेंसिंग की उचित व्यवस्था की जाए। काउंसलिंग स्थल पर स्थानीय पुलिस प्रशासन से व्यवस्था हेतु कहा है।



पहुंच तो जाएंगे, पर कहां ठहरेंगे अभ्यर्थी ?
काउंसलिंग के लिए अभ्यर्थी संबंधित जिलों तक जैसे-तैसे पहुंच तो जाएंगे लेकिन कोविड-19 के मद्देनजर होटल, रेस्टोरेंट आदि बंद होने से अभ्यर्थियों के सामने ठहरने और भोजन आदि की दिक्कत आएगी। अभ्यर्थियों में बड़ी संख्या में महिलाएं भी हैं। 


इन महिला अभ्यर्थियों का कहना है कि मेरिट के अनुसार अगर उन्हें काउंसलिंग के लिए दूर के जिलों में जाना पड़ता है तो उन्हें एक दिन पहले पहुंचना होगा और अगर काउंसलिंग वाले दिन नियुक्ति पत्र नहीं मिलता है तो अगले दिन का इंतजार करना होगा। ऐसे में वह दो से तीन दिनों तक कहां ठहरेंगी। अभ्यर्थियों का कहना है कि कोविड-19 के कारण रिश्तेदार भी उन्हें अपने घर बुलाने से कतरा रहे हैं।

Post a Comment

0 Comments