SHIKSHAK BHARTI : 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती के पदों का विवरण जारी, पांच जिलों में दो हजार से अधिक पद, अवध, तराई व पूर्वांचल क्षेत्र में होगी शिक्षकों की बंपर भर्ती, पश्चिमी क्षेत्र में रिक्तियों का सूखा।

SHIKSHAK BHARTI : 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती के पदों का विवरण जारी, पांच जिलों में दो हजार से अधिक पद, अवध, तराई व पूर्वांचल क्षेत्र में होगी शिक्षकों की बंपर भर्ती, पश्चिमी क्षेत्र में रिक्तियों का सूखा।

69000 सहायक अध्यापकों की जिलावार रिक्तियों का ब्योरा जारी

69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती के पदों का विवरण जारी, पांच जिलों में दो हजार से अधिक पद

प्रदेश के परिषदीय विद्यालयों में 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती के लिए शासन की ओर से जिलेवार खाली पदों का विवरण जारी कर दिया गया है। विशेष सचिव आनंद कुमार सिंह की ओर से जारी सूचना में सबसे अधिक 2500 पदों पर सीतापुर जिले में भर्ती होगी।


इसके अलावा हरदोई में 2450, जौनपुर में 2270, कुशीनगर में 2220, बदायूं एवं लखीमपुर खीरी में 2100 पद एवं गाजीपुर में 1920, बलिया में 16000, आजमगढ़ में 1550, कन्नौज में 1500 पदों के साथ गाजियाबाद में सबसे कम दो पदों पर भर्ती होगी।

शासन की ओर से जारी सूचना के अनुसार प्रदेश के पांच जिलों में दो हजार से अधिक और 31 जिलों में एक हजार से अधिक पदों पर भर्ती होगी। लखनऊ में 150, नोएडा में 140, प्रयागराज में 990, गोरखपुर में 1250 पदों पर भर्ती की जाएगी। 

लखनऊ : परिषदीय विद्यालयों में 69000 सहायक अध्यापकों की जिलावार रिक्तियों का ब्योरा जारी कर दिया गया है। लखनऊ में 150 पद हैं। सबसे ज्यादा पद सीतापुर में हैं, जिनकी संख्या 2500 है जबकि गाजियाबाद में केवल दो ही पदों पर भर्ती होगी। 

मेरठ में 130, बागपत में 100, बुलंदशहर में 840, हापुड़ में 150,  गौतमबुद्धनगर में 140, आगरा में 820, फिरोजाबाद में 680, मैनपुरी में 940, अलीगढ़ में 940, कासगंज में 1010, एटा में 580, हाथरस में 680, मथुरा में 690, बरेली में 1220, बदायूं में 2100, पीलीभीत में 870 शाहजहांपुर में 1450, प्रयागराज में 990, फतेहपुर में 520, प्रतापगढ़ में 1330, कौशांबी में 700, वाराणसी में 230, चंदौली में 400, गाजीपुर में 1920, जौनपुर में 2270, मीरजापुर में 1200, सोनभद्र में 450, भदोही में 650, हरदोई में 2450, रायबरेली में 670, उन्नाव में 1120, लखीमपुर में 2100, गोरखपुर में 1250, देवरिया में 1248, कुशीनगर में 2220, महराजगंज में 1560, बस्ती में 1340, संत कबीर नगर में 780, सिद्धार्थनगर में 1050, झांसी में 530, ललितपुर में 590, जालौन में 390, चित्रकूट में 1080, बांदा में 1070, महोबा में 370, हमीरपुर में 480, अयोध्या में 880, बाराबंकी में 1310, सुल्तानपुर में 1570, अमेठी में 820, अंबेडकरनगर में 660, गोंडा में 1620, बलरामपुर में 440, बहराइच में 1060, श्रावस्ती में 280, मुरादाबाद 750, संभल में 680, रामपुर 1250, बिजनौर में 1130, अमरोहा में 720, कानपुर नगर में 350, कानपुर देहात में 520, इटावा में 590, औरैया में 550, फर्रुखाबाद में 1000, कन्नौज में 1500, आजमगढ़ में 1550, बलिया में 1600, मऊ में 200, सहारनपुर में 600, मुजफ्फरनगर में 260 और शामली में 160 पद तय किए गए हैं।


69000 शिक्षकों के चयन में अवध क्षेत्र, पूर्वांचल और तराई के जिलों में बंपर भर्तियां होगी क्योंकि इन क्षेत्रों में सबसे ज्यादा पद खाली हैं। शिक्षकों के सर्वाधिक 2500 पदों पर सीतापुर जिले में भर्तियां होंगी। दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा 2450 पदों पर भर्तियां सीतापुर के पड़ोसी जिले हरदोई में होंगी। तीसरे पायदान पर पूर्वांचल का जौनपुर जिला है जहां 2270 पदों पर शिक्षकों का चयन होना है। भर्तियों के लिहाज से पश्चिमी उप्र के जिलों में सूखा रहेगा क्योंकि वहां ज्यादातर पद पहले से भरे हैं। पश्चिमी उप्र के गाजियाबाद जिले में सबसे कम, सिर्फ दो पदों पर भर्ती होगी।

Post a Comment

0 Comments