ATTENDANCE, BIOMETRIC : शिक्षकों की बायोमीट्रिक हाजिरी की तैयारी, सरकारी स्कूलों को जल्द मिलेगा टैबलेट, प्रेरणा ऐप के विरोध के बाद बायोमीट्रिक व्यवस्था

ATTENDANCE, BIOMETRIC :  शिक्षकों की बायोमीट्रिक हाजिरी की तैयारी, सरकारी स्कूलों को जल्द मिलेगा टैबलेट, प्रेरणा ऐप के विरोध के बाद बायोमीट्रिक व्यवस्था


शिक्षकों की बायोमीट्रिक हाजिरी की तैयारी: सरकारी स्कूलों के प्रधानाचार्यों को दिए जाने वाले टैबलेट में हाजिरी के लिए बायोमीट्रिक अटेंडेंस की व्यवस्था होगी। सूबे में 1,59,043 स्कूलों, 880 खण्ड शिक्षा अधिकारियों और 4400 अकादमिक रिसोर्स पर्सन के लिए ये टैबलेट खरीदे जा रहे हैं।


सरकारी स्कूलों के प्रधानाचार्यों को दिए जाने वाले टैबलेट में हाजिरी के लिए बायोमीट्रिक अटेंडेंस की व्यवस्था होगी। प्रदेश भर के 1,59,043 स्कूलों, 880 खण्ड शिक्षा अधिकारियों और 4400 अकादमिक रिसोर्स पर्सन (एआरपी) के लिए ये टैबलेट खरीदे जा रहे हैं। इस पूरी योजना पर सरकार 150 करोड़ रुपये खर्च करेगी।

इसके लिए सरकार ने प्रस्ताव मांग लिए हैं। 26 फरवरी को तकनीकी निविदा खोली जाएगी। इस टैबलेट में शिक्षकों को बायोमीट्रिक हाजिरी देनी होगी वहीं स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को भी 15 दिन में एक बार इसके माध्यम से हाजिरी लगानी होगी। इसके लिए आधार का ब्यौरा लिंक किया जाएगा और इसमें बायोमीट्रिक स्कैनर की व्यवस्था होगी। टैबलेट के साथ न्यूनतम 2 जीबी का डाटा प्लान भी दिया जाएगा। वहीं विभाग के अन्य मॉड्यूलों के सॉफ्टवेयर इसमें डाले जाएंगे। मसलन प्रेरणा पोर्टल, मानव सम्पदा इत्यादि।

प्रेरणा ऐप के विरोध के बाद बायोमीट्रिक व्यवस्था: इससे पहले सरकार ने प्रेरणा ऐप के जरिए फोटो यानी सेल्फी के मार्फत हाजिरी लेने का आदेश जारी किया था लेकिन शिक्षकों ने इसका बहुत विरोध किया। इसके बाद विभाग ने बाकी सारे मॉड्यूल लागू कर हाजिरी मॉड्यूल को टैबलेट देने तक स्थगित कर दिया था।

हेल्पडेस्क भी होगी: इसके इस्तेमाल व अन्य दिक्कतों को दूर करने के लिए कम्पनी को हेल्पडेस्क भी बनानी होगी।

राज्यस्तर पर हो सकेगी डिवाइस ट्रैकिंग
आपूर्तिकर्ता को यह सुनिश्चित करना होगा कि इस टैबलेट में जो भी डाटा हो वह राज्यस्तर पर देखा जा सके। इस टैबलेट की लोकेशन को ट्रैक किया जा सकेगा। इसके अलावा ये भी यहां से देखा जा सकेगा कि टैबलेट में सिग्नल कैसा है? कम्पनी को दो विभिन्न कम्पनियों के सिम देने होंगे।

राज्यस्तर पर हो सकेगी डिवाइस ट्रैकिंग
आपूर्तिकर्ता को यह सुनिश्चित करना होगा कि इस टैबलेट में जो भी डाटा हो वह राज्यस्तर पर देखा जा सके। इस टैबलेट की लोकेशन को ट्रैक किया जा सकेगा। इसके अलावा ये भी यहां से देखा जा सकेगा कि टैबलेट में सिग्नल कैसा है? कम्पनी को दो विभिन्न कम्पनियों के सिम देने होंगे।



Post a Comment

0 Comments