UPTET : स्थगित हुई यूपी टीईटी 2019 परीक्षा, नई डेट का ऐलान जल्द

UPTET : स्थगित हुई यूपी टीईटी 2019 परीक्षा, नई डेट का ऐलान जल्द

लाइव हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराज

UPTET 2019 postponed : उत्तर प्रदेश में 22 दिसंबर रविवार को होने वाली अध्यापक पात्रता परीक्षा ( यूपीटीईटी ) को स्थगित कर दिया गया है। राजस्व एवं बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से जारी नोटिस में कहा गया है कि अपरिहार्य कारणों से उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी टीईटी ) स्थगित की जाती है। परीक्षा की नई तिथि की सचूना जल्द से जल्द दी जाएगी। इस परीक्षा में 16 लाख 58 हजार परीक्षार्थी शामिल हो रहे हैं। परीक्षा संपन्न कराने के लिए 1986 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे।

uptet 2019 postponed

परीक्षा नियामक सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी ने पीटीआई भाषा को बताया कि इस परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र 12 दिसंबर से ही डाउनलोड किए जा रहे थे लेकिन प्रदेश में कानून व्यवस्था को देखते हुए कई जगहों पर इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं जिससे प्रवेश पत्र डाउनलोड करने में समस्या आ रही है। उन्होंने कहा कि परीक्षा की अगली तिथि की जानकारी जल्दी ही दी जाएगी।

CAA Protest : यूपी के कई जिलों में फैली हिंसा
उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शुक्रवार को हिंसा और जिलों में फैल गयी। जुमे की नमाज के बाद प्रदर्शनकारियों ने हिंसा शुरू कर दी हालांकि राजधानी लखनऊ और अलीगढ़ में कुल मिलाकर शांति रही। जिन जिलों से हिंसा की खबरें आ रही हैं, उनमें फिरोजाबाद, गोरखपुर, भदोही, बहराइच तथा संभल शामिल हैं। प्रदर्शनकारियों को जब निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर जुलूस निकालने से रोका गया तो उन्होंने पुलिस पर पथराव कर दिया। कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसूगैस के गोले दागे। सोशल मीडिया पर अफवाह फैलने से रोकने के लिए कई जिलों में इंटरनेट सेवाएं आज भी बंद रहीं।

उत्तर प्रदेश के कई बड़े शहरों में 45 घंटे के लिए इंटरनेट सेवा ठप,
नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हिंसा फैलने से रोकने के प्रयास में उत्तर प्रदेश के कई बड़े शहरों में अभूतपूर्व कार्रवाई करते हुए इंटरनेट सेवा अस्थाई तौर पर बंद कर दी गयी है, वहीं पश्चिम बंगाल तथा कर्नाटक के कुछ संवेदनशील शहरों में भी इस तरह की कार्रवाई की गयी है। दूरसंचार कंपनियों के अधिकारियों ने कहा कि उत्तर प्रदेश में राज्य सरकार के आदेश के बाद लखनऊ, कानपुर, इलाहाबाद, आगरा, अलीगढ़, गाजियाबाद, वाराणसी, मथुरा, मेरठ, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, बरेली, फिरोजाबाद, पीलीभीत, रामपुर, सहारनपुर, शामली, संभल, अमरोहा, मऊ, आजमगढ़ और सुल्तानपुर समेत कई बड़े शहरों में मोबाइट इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी गयी है। लखनऊ तथा गाजियाबाद समेत कुछ शहरों में ब्रॉडबैंड इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गयी है। उत्तर प्रदेश सरकार के अतिरिक्त मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने 19 दिसंबर को जारी आदेश में कहा कि एसएमएस और व्हाट्सऐप जैसी संदेश प्रणालियों तथा फेसबुक एवं यूट्यूब जैसी सोशल मीडिया प्रणालियों का इस्तेमाल भावना भड़काने वाली तस्वीरें, वीडियो और संदेश भेजने के लिए व्यापक तौर पर होने की आशंका है।

Post a Comment

0 Comments