UPTET : जानें क्यों रद्द हुई यूपी टीईटी 2019 परीक्षा

UPTET : जानें क्यों रद्द हुई यूपी टीईटी परीक्षा

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीUpdated: Fri, 20 Dec 2019 08:09 PM IST

+-

UPTET 2019 CAA Protest update: नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध प्रदर्शन के कारण 22 दिसंबर को होने वाली यूपीटीईटी परीक्षा रोक दी गई है। अध्यापक पात्रता परीक्षा ( यूपीटीईटी ) की नई तिथि की सूचना जल्द ही जाएगी। राजस्व एवं बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से जारी नोटिस में कहा गया है कि अपरिहार्य कारणों से उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी टीईटी ) स्थगित की जाती है। परीक्षा की नई तिथि की सचूना जल्द दी जाएगी। इस परीक्षा में 16 लाख 58 हजार परीक्षार्थी शामिल हो रहे हैं। परीक्षा संपन्न कराने के लिए 1986 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे।

यूपी-टीईटी परीक्षा दो पालियों में आयोजित होनी थी। पहली पाली की परीक्षा 10 से 12 और दूसरी पाली की परीक्षा 02:30 से 05:30 बजे तक होनी थी। अभ्यर्थियों को एक घंटा पहले सेंटरों पर पहुंचना था।

जान लें UPTET की अन्य अहम बातें 

परीक्षा केंद्र पर प्रवेश पत्र के साथ अभ्यर्थी को अपने ऑनलाइन आवेदन में अंकित फोटो युक्त पहचान पत्र तथा प्रशिक्षण योग्यता के प्रमाणपत्र या किसी भी सेमेस्टर के अंकपत्र की मूल प्रति साथ लाना अनिवार्य है। अभ्यर्थियों के पास प्रशिक्षण योग्यता के मूल अंक पत्र उपलब्ध न होने की स्थिति में संबंधित प्रशिक्षण संस्था के प्राचार्य या सक्षम अधिकारी द्वारा प्रमाणित इंटरनेट से प्राप्त अंकपत्र की प्रस्तुति करने पर परीक्षा में सम्मिलित हो सकता है। इसके बिना परीक्षा केंद्र में प्रवेश की अनुमति नहीं मिलेगी। आपको बता दें कि यूपीटीईटी प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 1076336 जबकि उच्च प्राथमिक के लिए 569174 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है।

परीक्षा नियामक प्राधिकारी के स्तर से ही इस बार ऐसे प्रयास किए जा रहे हैं कि कोई सॉल्वर न बैठ सके। यदि कोई बैठता है तो उसे पकड़ना आसान हो। यही नहीं ऐसे लोगों पर भी निगाह रखने के लिए कहा गया है जो पेपर आउट होने की अफवाह फैलाते हैं।

यूपी टीईटी 2019 में सफेदा (करेक्टिव फ्लूड या व्हाइटनर) लगाया तो आंसर-शीट के रूप में मिली ओएमआर शीट नहीं जांची जाएगी। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी अनिल भूषण चतुर्वेदी की ओर से जारी निर्देश पर लिखा है कि ओएमआर शीट पर अशुद्ध लिखने के बाद व्हाइटनर का इस्तेमाल कभी न करें। ऐसा होने पर ओएमआर शीट निरस्त की जाएगी। 

यही नहीं यदि कोई परीक्षार्थी सादी ओएमआर शीट जमा करता है तो कक्ष निरीक्षक उस पर अभ्यर्थी से क्रॉस कराएंगे। क्योंकि उसका मूल्यांकन नहीं होगा। उत्तर पत्रक (ओएमआर शीट) पर दिए स्थान पर पेन से हल किए गए प्रश्नों की संख्या शब्दों एवं अंकों में लिखना जरूरी है। प्रश्न पुस्तिका और उत्तर पत्रक की कार्बन कॉपी की एक कॉपी अभ्यर्थी परीक्षा के बाद अपने साथ ले जा सकेंगे। 

Post a Comment

0 Comments