UNIFORM : ठंड ने दी दस्तक, लेकिन फिर भी बेसिक स्कूलों में नहीं बंटे स्वेटर, 90 फीसद जिलों में नहीं शुरू हो पाई आपूर्ति

UNIFORM : ठंड ने दी दस्तक, लेकिन फिर भी बेसिक स्कूलों में नहीं बंटे स्वेटर, 90 फीसद जिलों में नहीं शुरू हो पाई आपूर्ति

ठंड की दस्तक, लेकिन स्कूलों में नहीं बंटे स्वेटर


राज्य ब्यूरो, लखनऊ: अक्टूबर का महीना बीतने में सिर्फ एक दिन बाकी है। गुलाबी ठंड की दस्तक हो चुकी है, लेकिन प्रदेश के परिषदीय स्कूलों में सभी बच्चों को स्वेटर बंटना तो दूर, सूबे के 90 फीसद जिलों में अभी उसकी आपूर्ति भी नहीं शुरू हो पाई है। यह स्थिति तब है जब सरकार ने 31 अक्टूबर तक हर हाल में स्वेटर बांटने का निर्देश दिया था।
योगी सरकार ने परिषदीय स्कूलों के सभी बच्चों को प्रत्येक शैक्षिक सत्र में एक सेट मैरून रंग का स्वेटर देने का फैसला किया था, जिसकी अधिकतम कीमत 200 रुपये तय है। स्वेटर बांटने में पिछले वर्षों में विलंब को देखते हुए अबकी डीएम की अध्यक्षता में कमेटी गठित की गई। स्वेटर की खरीद जिला स्तर पर जेम पोर्टल के जरिये करने के साथ 31 अक्टूबर तक उन्हें बच्चों को बांटने के निर्देश दिए गए। विभागीय अफसरों के मुताबिक अभी सिर्फ झांसी, लखीमपुर खीरी, रायबरेली, मऊ, बरेली, रायबरेली, कानपुर नगर और बाराबंकी में ही स्वेटर की आपूर्ति शुरू हो पाई है। इनमें भी इक्का-दुक्का जिलों के चंद स्कूलों में ही स्वेटर दिए गए हैं। गोंडा, बलरामपुर, जौनपुर व लखनऊ समेत लगभग 20 जिलों में तो टेंडर प्रक्रिया ही पूरी नहीं हुई है। लखनऊ और मुख्यमंत्री के गृह जिले गोरखपुर में तो टेंडर में सबसे कम दाम कोट करने वाली फर्म ने स्वेटर की आपूर्ति करने से ही हाथ खड़े कर दिए। कई और जिलों में ऐसे हालात पैदा होने पर दोबारा बिड प्रक्रिया का सहारा लेना पड़ा है।

जिला स्तर पर जेम पोर्टल के जरिये स्वेटर खरीद में दिक्कतें आ रही हैं। कई जिलों में फर्मों ने बिना पूरी जानकारी हासिल किये ही टेंडर में हिस्सा लिया और बाद में टेंडर खुलने पर पीछे हट गईं। इस वजह से कई जिलों में दोबारा टेंडर कराने पड़े हैं।’

डॉ.सतीश द्विवेदी, बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)

Post a Comment

0 Comments