Wednesday, October 10, 2018

PROTEST, BTC : निदेशालय पर जड़ा ताला, अभ्यर्थी बोले, नहीं दे पाएंगे शिक्षक पात्रता परीक्षा, निशातगंज स्थित शिक्षा निदेशालय में बीटीसी परीक्षा कैंसल होने पर अभ्यर्थियों ने किया प्रदर्शन।

PROTEST, BTC : निदेशालय पर जड़ा ताला, अभ्यर्थी बोले, नहीं दे पाएंगे शिक्षक पात्रता परीक्षा, निशातगंज स्थित शिक्षा निदेशालय में बीटीसी परीक्षा कैंसल होने पर अभ्यर्थियों ने किया प्रदर्शन।

लखनऊ । प्रदेशभर में बीटीसी चौथे सेमेस्टर की परीक्षा रद किए जाने से नाराज अभ्यर्थियों ने मंगलवार को निशातगंज स्थित राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) निदेशालय का घेराव कर प्रदर्शन किया। सुबह 9:45 बजे से डटे अभ्यर्थियों ने शाम तक मांगों पर कार्रवाई न होने पर निदेशालय के मेन गेट पर ताला जड़ दिया। इससे अभ्यर्थियों के साथ अधिकारी व कर्मचारी भी अंदर रह गए। रात साढ़े आठ बजे तक चली बैठक के बाद अधिकारियों के आश्वासन पर अभ्यर्थी निदेशालय से चले गए। अभ्यर्थिंयों की मांग है कि बीटीसी चौथे सेमेस्टर की परीक्षाएं 15 से 17 अक्टूबर में करवाई जाएं और टीईटी परीक्षा की तिथि एक महीने आगे बढ़ाई जाए।

बीटीसी-2015 बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षाएं 8 से 10 अक्टूबर तक होनी थी, लेकिन सोमवार को कौशांबी में इस परीक्षा का पेपर लीक होने की बात सामने आई। इसके बाद परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने देर रात सभी परीक्षाएं रद कर दी थीं।
निदेशालय पर जड़ा ताला
अभ्यर्थी बोले, नहीं दे पाएंगे शिक्षक पात्रता परीक्षा

प्रदर्शन कर रहे मोनू वर्मा, दीपिका मौर्य, अनामिका, रावेंद्र, शिवम सहित कई अभ्यर्थियों का कहना था कि अगले महीने टीईटी परीक्षा है। सभी ने आवेदन किया है। नियमानुसार बीटीसी चौथे सेमेस्टर के नतीजे टीईटी रिजल्ट से पहले आने चाहिए। यदि समय से सेमेस्टर परीक्षा नहीं हुई तो परिणाम कैसे समय पर आएगा। ऐसे में अगली शिक्षक पात्रता परीक्षा और शिक्षक भर्ती में हम शामिल नहीं हो पाएंगे। 

मांग पत्र पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है। मामले से शासन को भी अवगत करवा दिया गया है। जल्द ही कोई निर्णय होने को उम्मीद है। -संजय सिन्हा, निदेशक एससीईआरटी

निदेशक ने तीन दिन में सेमेस्टर की परीक्षा का कार्यक्रम जारी करने का आश्वासन दिया है। मांगें पूरी न होने पर हम फिर से यहां आएंगे। -सर्वेश कुमार सिंह, प्रदेश अध्यक्ष, बीटीसी मोर्चा 2015 बैच
बीटीसी अभ्यर्थियों ने चौथे सेमेस्टर की परीक्षा रद होने पर किया प्रदर्शन

बीटीसी प्रशिक्षुओं ने लगाया ताला, अफसर हुए कैद, टीईटी परीक्षा को डेढ़ माह आगे बढ़ाने व दिसंबर की शिक्षक भर्ती में शामिल करने का लिखित आश्वासन की मांग पर अड़े प्रशिक्षु
लखनऊ : बीटीसी चतुर्थ सेमेस्टर का पेपर लीक होने पर प्रशिक्षुओं में आक्रोश है। ऐसे में सुबह प्रदेश भर से छात्र राजधानी पहुंचे। उन्होंने एससीईआरटी निदेशालय में अफसरों के वाहन रोक लिए, वहीं शाम को गेट में ताला लगाकर उन्हें कार्यालय में देर तक कैद रखा।

दरअसल, बीटीसी-2015 के चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा आठ से 10 अक्टूबर तक प्रस्तावित थी। परीक्षा के पहले ही दिन आठों पेपर लीक होने से व्यवस्थाएं धराशायी हो गईं। ऐसे में बीटीसी संयुक्त प्रशिक्षु मोर्चा ने सरकार व अफसरों की नाकामी का हवाला देकर मंगलवार को राजधानी में डेरा डाल दिया। निशातगंज स्थित राज्य शैक्षिक अनुसंधान व प्रशिक्षण कार्यालय में मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष सर्वेश प्रताप सिंह के नेतृत्व में सैकड़ों छात्रों ने नारेबाजी की। सुबह नौ बजे पहुंचे छात्रों ने 10 बजे अफसरों के कार्यालय आते ही उनका वाहन घेर लिया। ऐसे में छात्रों को समझा-बुझाकर अफसर कार्यालय में प्रवेश कर सके।1बीटीसी प्रशिक्षुओं का सुबह नौ बजे से एससीईआरटी कार्यालय पर नारेबाजी को लेकर निदेशक संजय सिन्हा ने वार्ता की। मगर प्रशिक्षु परीक्षा अगले सप्ताह कराने की घोषणा, टीईटी परीक्षा को डेढ़ माह आगे बढ़ाने व दिसंबर की शिक्षक भर्ती में शामिल करने का लिखित आश्वासन देने को लेकर अड़े रहे। इसको लेकर शासन स्तर तक मंथन चला।
इलाहाबाद : पेपर लीक के चलते बीटीसी 2015 बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षा रद होने से अभ्यर्थी परेशान हैं। अभ्यर्थी चौथे सेमेस्टर की पुनर्परीक्षा 20 अक्टूबर से पहले कराने की मांग कर रहे हैं। मंगलवार को परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर धरना देकर तालाबंदी भी की। बीटीसी 2015 बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षा निरस्त हो चुकी है। अभ्यर्थियों का कहना है कि पुनर्परीक्षा पर जल्द कोई निर्णय न लिया गया तो वे आगामी शिक्षक भर्ती से वंचित हो जाएंगे। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर धरना देने के बाद अभ्यर्थियों का समूह जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचा। वहां प्रशासनिक अधिकारियों के जरिये मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भेजा। इसमें बीटीसी 2015 के तीसरे सेमेस्टर की बैक पेपर की परीक्षा भी जल्द कराने और चार नवंबर को प्रस्तावित यूपीटीईटी की तारीख आगे बढ़ाने की मांग की गई। यहां आशीष पटेल, शशांक पांडेय सत्यम, अभिषेक सिंह, निखिल यादव, विक्रम यादव आदि शामिल रहे।

Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home