Thursday, October 11, 2018

EXAMINATION, BTC : अब दो सेट में तैयार होगा बीटीसी का पेपर, चौथे सेमेस्टर के अभ्यर्थियों में बढ़ा आक्रोश

EXAMINATION, BTC : अब दो सेट में तैयार होगा बीटीसी का पेपर, चौथे सेमेस्टर के अभ्यर्थियों में बढ़ा आक्रोश

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : प्रतियोगी की जगह प्रशिक्षण परीक्षा का पेपर लीक होने से शिक्षा विभाग में खलबली मची है। लंबे समय से चल रही इन परीक्षाओं में पहली बार ऐसी नौबत आइ तो उसका हल खोजा जा रहा है। इसके लिए अब हर सेमेस्टर का परीक्षा के दो प्रश्नपत्र तैयार कराने की योजना बन रही है, ताकि आगे ऐसे हालात बनने पर तत्काल परीक्षा कराई जा सके।

बीटीसी वर्ष 2015 चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा के सभी आठ प्रश्नपत्र इम्तिहान शुरू होने से पहले ही शिक्षा माफियाओं तक पहुंच गए। यह गड़बड़ी कहीं दूर नहीं बल्कि परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के सबसे करीबी और नकल के लिए कुख्यात कौशांबी जिले में हुई। प्रदेश के बाकी जिलों में पहले दिन की परीक्षा शांतिपूर्वक हुई। परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने पेपर लीक होने की पुष्टि होते ही सभी जिलों की परीक्षा निरस्त कर दी है। शासन ने भी सख्ती दिखाते हुए एफआइआर दर्ज कराई है और जरूरत पड़ने पर एसआइटी जांच कराने का एलान किया है। पेपर लीक में परीक्षा नियामक कार्यालय ही घेरे में है। अब यह इम्तिहान नई तारीख में दोबारा कराने की मांग जोर पकड़ रही है। इसमें सबसे बड़ी परेशानी यही है कि परीक्षा नियामक कार्यालय पहले इम्तिहान के सभी आठ पेपर तैयार कराए और फिर उसे जिलों में भेजे। कहा जा रहा है कि इस बार बीटीसी तृतीय सेमेस्टर के प्रश्नपत्र में बड़ी संख्या में प्रशिक्षुओं के फेल होने और चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा डायट व निजी कालेजों की जगह जीआइसी व जीजीआइसी और अशासकीय कालेजों में होने से परीक्षा हर हाल में उत्तीर्ण करने के लिए पेपर लीक होने का अंदेशा है, क्योंकि ये परीक्षा उत्तीर्ण किए बिना शिक्षक भर्ती में शामिल हो पाना संभव नहीं था।

परीक्षा नियामक सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी ने कहा है कि पेपर लीक होने से दंग हूं, क्योंकि प्रशिक्षण परीक्षा में भी माफिया सक्रिय होंगे इसकी किसी को उम्मीद नहीं थी। इसलिए अब आगे से बीटीसी या फिर डीएलएड में दो सेट में प्रश्नपत्र तैयार कराए जाने की तैयारी चल रही है, ताकि आगे ऐसे हालात बनने पर परीक्षा प्रभावित न होने पाए। जल्द ही इस पर अंतिम निर्णय होगा।राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : प्रतियोगी की जगह प्रशिक्षण परीक्षा का पेपर लीक होने से शिक्षा विभाग में खलबली मची है। लंबे समय से चल रही इन परीक्षाओं में पहली बार ऐसी नौबत आइ तो उसका हल खोजा जा रहा है। इसके लिए अब हर सेमेस्टर का परीक्षा के दो प्रश्नपत्र तैयार कराने की योजना बन रही है, ताकि आगे ऐसे हालात बनने पर तत्काल परीक्षा कराई जा सके।

बीटीसी वर्ष 2015 चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा के सभी आठ प्रश्नपत्र इम्तिहान शुरू होने से पहले ही शिक्षा माफियाओं तक पहुंच गए। यह गड़बड़ी कहीं दूर नहीं बल्कि परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के सबसे करीबी और नकल के लिए कुख्यात कौशांबी जिले में हुई। प्रदेश के बाकी जिलों में पहले दिन की परीक्षा शांतिपूर्वक हुई। परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने पेपर लीक होने की पुष्टि होते ही सभी जिलों की परीक्षा निरस्त कर दी है। शासन ने भी सख्ती दिखाते हुए एफआइआर दर्ज कराई है और जरूरत पड़ने पर एसआइटी जांच कराने का एलान किया है। पेपर लीक में परीक्षा नियामक कार्यालय ही घेरे में है। अब यह इम्तिहान नई तारीख में दोबारा कराने की मांग जोर पकड़ रही है। इसमें सबसे बड़ी परेशानी यही है कि परीक्षा नियामक कार्यालय पहले इम्तिहान के सभी आठ पेपर तैयार कराए और फिर उसे जिलों में भेजे। कहा जा रहा है कि इस बार बीटीसी तृतीय सेमेस्टर के प्रश्नपत्र में बड़ी संख्या में प्रशिक्षुओं के फेल होने और चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा डायट व निजी कालेजों की जगह जीआइसी व जीजीआइसी और अशासकीय कालेजों में होने से परीक्षा हर हाल में उत्तीर्ण करने के लिए पेपर लीक होने का अंदेशा है, क्योंकि ये परीक्षा उत्तीर्ण किए बिना शिक्षक भर्ती में शामिल हो पाना संभव नहीं था।

परीक्षा नियामक सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी ने कहा है कि पेपर लीक होने से दंग हूं, क्योंकि प्रशिक्षण परीक्षा में भी माफिया सक्रिय होंगे इसकी किसी को उम्मीद नहीं थी। इसलिए अब आगे से बीटीसी या फिर डीएलएड में दो सेट में प्रश्नपत्र तैयार कराए जाने की तैयारी चल रही है, ताकि आगे ऐसे हालात बनने पर परीक्षा प्रभावित न होने पाए। जल्द ही इस पर अंतिम निर्णय होगा।

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षा को लेकर प्रशिक्षुओं ने आंदोलन तेज कर दिया है। धरने के दूसरे दिन परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर खूब नारेबाजी की। एसीएम यानि अपर नगर मजिस्ट्रेट के आने पर भी सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी से सीधे मुलाकात नहीं हो सकी। जबकि परीक्षा की तारीख पर सचिव ने फोन से एसीएम की हुई बात पर भी अभी स्पष्ट जवाब नहीं दिया। उन्होंने गुरुवार को आंदोलनरत अभ्यर्थियों से मिलने का आश्वासन जरूर दिया। 1कौशांबी जिले में पेपर लीक होने के चलते परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय ने बैच के चौथे सेमेस्टर के सभी आठ पेपर निरस्त कर दिए हैं। परीक्षा की नई तारीख अब तक घोषित नहीं है। जिससे अभ्यर्थी आगामी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल नहीं हो सकेंगे। अभ्यर्थी परीक्षा निरस्त होने के बाद से परीक्षा संस्था के कार्यालय पर धरना दे रहे हैं।

बुधवार को अपर नगर मजिस्ट्रेट परीक्षा संस्था पर पहुंचे। उन्होंने अभ्यर्थियों की समस्या को सुना। सचिव के न रहने पर फोन से उनसे बात की। लेकिन, परीक्षा की तारीख को लेकर असमंजस बना रहा। बीटीसी संयुक्त प्रशिक्षु मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष सर्वेश प्रताप सिंह, अभिषेक सिंह, शशांक पांडेय ‘सत्यम’, अभिषेक सिंह, निखिल यादव आदि ने कहा है कि परीक्षा की तारीख जारी होने पर ही धरना समाप्त होगा।क्रमिक अनशन की चेतावनी1चौथे सेमेस्टर की परीक्षा के मुद्दे पर आल बीटीसी वेलफेयर एसोसिएशन ने परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर धरना प्रदर्शन किया और डीएम को ज्ञापन सौंपा। प्रदेश महासचिव प्रफुल्ल सिंह के नेतृत्व में अमरमणि त्रिपाठी, मीरजापुर के मंडल अध्यक्ष विकास दुबे, रूपेंद्र उपाध्याय, अलीशेख आदि ने कहा कि मांग पूरी न हुई तो क्रमिक अनशन करेंगे।

Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home