Thursday, May 31, 2018

BSA, TRANSFER : 18 जिलों में नए बेसिक शिक्षा अधिकारी (BSA) तैनात, बेसिक शिक्षा विभाग ने किये 33 अधिकारियों के तबादले

BSA, TRANSFER : 18 जिलों में नए बेसिक शिक्षा अधिकारी (BSA) तैनात, बेसिक शिक्षा विभाग ने किये 33 अधिकारियों के तबादले

लखनऊ : बेसिक शिक्षा विभाग ने बुधवार को 33 अधिकारियों के तबादले कर दिए। इसमें 18 जिलों में बेसिक शिक्षा अधिकारी बदले गए हैं। लखनऊ में संबद्ध शिक्षा निदेशालय बेसिक में तैनात रहे संतोष कुमार सिंह का तबादला डायट इलाहबाद में वरिष्ठ प्रवक्ता के पद पर किया गया है। वहीं आंग्ल भाषा शिक्षा संस्थान, इलाहाबाद में तैनात रहे संतोष कुमार मिश्र को वरिष्ठ प्रवक्ता, डायट, इलाहाबाद बनाया गया है।

SCHOOL, BASIC SHIKSHA NEWS : बेसिक शिक्षा परिषद के कम छात्र संख्या वाले स्कूलों को क्यों न किया जाए बंद, शिक्षा निदेशक बेसिक ने अपनाया कड़ा रुख, छात्र संख्या 50 से भी कम वालों पर गिर सकती है गाज

SCHOOL, BASIC SHIKSHA NEWS : बेसिक शिक्षा परिषद के कम छात्र संख्या वाले स्कूलों को क्यों न किया जाए बंद, शिक्षा निदेशक बेसिक ने अपनाया कड़ा रुख, छात्र संख्या 50 से भी कम वालों पर गिर सकती है गाज

इलाहाबाद : प्रदेश के बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों में छात्र-छात्रओं का नामांकन घटा है। इस पर शिक्षा निदेशक बेसिक ने कड़ा रुख अपनाया है और सभी बीएसए से इस संबंध में आख्या मांगी है। यह भी कहा गया है कि यदि इन विद्यालयों में छात्र संख्या 50 से भी कम है तो यह गंभीर लापरवाही है। ऐसे स्कूलों को बंद कराने के लिए क्यों न शासन को संस्तुति भेजी जाए।
प्रदेश के अनुदानित बेसिक स्कूलों में छात्र-छात्रओं की संख्या तेजी से घटी है। यह हाल किसी एक जिले या फिर कुछ जिलों का नहीं है, बल्कि प्रदेश के लखनऊ, इलाहाबाद, आगरा, गोरखपुर सहित करीब 57 जिलों से ऐसी ही रिपोर्ट मिली है। कुछ स्कूलों में 50 से कम तो कई जगह पर करीब 70 बच्चे ही पढ़ रहे हैं। इस पर शासन ने असंतोष जताया है, क्योंकि इन स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों के अनुपात में छात्र बेहद कम हो गए हैं। शिक्षा निदेशक की ओर से अपर शिक्षा निदेशक बेसिक रूबी सिंह ने इन जिलों से बीएसए से पूछा है कि ऐसे स्कूलों में सृजित पदों की संख्या, कार्यरत शिक्षकों का पूर्ण विवरण मसलन शिक्षक का नाम, नियुक्ति दिनांक, कार्यरत शिक्षकों की संख्या आदि विवरण 10 जून तक उपलब्ध कराएं।

BEO, TRANSFER, GOVERNMENT ORDER : शासन स्तर से 31 और खंड शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले, तत्काल नई तैनाती स्थल पर कार्यभार ग्रहण करने के आदेश, जनपद महराजगंज से श्री धर्मेंद्र कुमार पाल, श्री संतोष कुमार शुक्ला, श्री राजेश कुमार और श्री सीपी गौड़ भी किये गये स्थानांतरित, क्लिक कर सूची देखें ।

BEO, TRANSFER, GOVERNMENT ORDER : शासन स्तर से 31 और खंड शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले, तत्काल नई तैनाती स्थल पर कार्यभार ग्रहण करने के आदेश, जनपद महराजगंज से श्री धर्मेंद्र कुमार पाल, श्री संतोष कुमार शुक्ला, श्री राजेश कुमार और श्री सीपी गौड़ भी किये गये स्थानांतरित, क्लिक कर सूची देखें ।

📌 GOVERNMENT ORDER, BEO, TRANSFER : एक सौ तीस खण्ड शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले, क्लिक करके पूरी सूची के साथ जारी आदेश देखें ।


इलाहाबाद : प्रदेश में खंड शिक्षा अधिकारियों के बड़े पैमाने पर हुए तबादले

इलाहाबाद : बेसिक शिक्षा के स्कूलों में नए सत्र में पठन-पाठन का माहौल बनाने के लिए बड़ा कदम उठाया गया है। स्कूलों की मॉनीटरिंग करने वाले खंड शिक्षा अधिकारियों के बड़े पैमाने पर तबादले हुए हैं। उनमें से अधिकांश एक ही मंडल व जिलों में वर्षो से जमे रहे हैं। हालांकि इस फेरबदल में कुछ ऐसे भी अधिकारी उन जिलों में तैनाती पाने में सफल हो गए हैं जहां नियुक्ति के दौरान पर उन पर गंभीर आरोप लगे थे।1शासन ने खंड शिक्षा अधिकारियों की अलग से तबादला नीति नहीं जारी की है, बल्कि निर्देश दिया गया था कि घोषित हो चुकी नीति के तहत फेरबदल किया जाए। इसमें मंडल व जिलों में लंबे समय से तैनात अफसरों को दूसरे मंडल व जिलों में भेजे जाने के निर्देश हैं। उसी के तहत हर जिले में तैनात अफसरों की पूरी रिपोर्ट शिक्षा निदेशालय ने तलब की थी। वह रिपोर्ट आने के बाद अपर निदेशक बेसिक शिक्षा कीर्ति गौतम की ओर से करीब 175 से अधिक अफसरों को इधर से उधर किया गया है। निर्देश है कि वह नई तैनाती स्थल पर तत्काल कार्यभार ग्रहण कर लें। असल में सरकार का जोर है कि प्राथमिक स्कूलों में पाठ्यक्रम के अनुरूप बेहतर पढ़ाई हो। उसके लिए शैक्षिक कैलेंडर व हर दिन व घंटे में क्या पढ़ाया जाना है यह तक तय है, फिर भी मानक के अनुरूप पढ़ाई नहीं हो पा रही है। इसकी निगरानी करने की पहली जिम्मेदारी खंड शिक्षा अधिकारी पर रहती है। यह अफसर एक ही जगह अर्से से जमे होने के कारण विभागीय राजनीति व शिक्षकों की हाजिरी जांचने में ही व्यस्त रहते हैं। गिने-चुने खंड शिक्षा अधिकारी निरीक्षण में पठन-पाठन का हाल लेते रहे हैं।


UPPSS, BASIC SHIKSHA NEWS : डिप्टी रजिस्ट्रार द्वारा सत्य प्रमाणित प्रतिलिपि जारी करते हुए उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के वैधानिक प्रदेश अध्यक्ष डॉ दिनेश चंद्र शर्मा को किया प्रमाणित, पदाधिकारी / सदस्यों और माण्डलिक मंत्रियों की सूची वर्ष 2018 -19 को क्लिक कर देखें, केशवमणि त्रिपाठी व सत्येन्द्र कुमार मिश्रा की अगुवाई में महराजगंज की पूरी टीम ने दी बधाई ।

UPPSS, BASIC SHIKSHA NEWS : डिप्टी रजिस्ट्रार द्वारा सत्य प्रमाणित प्रतिलिपि जारी करते हुए उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के वैधानिक प्रदेश अध्यक्ष डॉ दिनेश चंद्र शर्मा को किया प्रमाणित, पदाधिकारी / सदस्यों और माण्डलिक मंत्रियों की सूची वर्ष 2018 -19 को क्लिक कर देखें, केशवमणि त्रिपाठी व सत्येन्द्र कुमार मिश्रा की अगुवाई में महराजगंज की पूरी टीम ने दी बधाई । 



GOVERNMENT ORDER, BSA, TRANSFER : शासन स्तर से 33 जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले, क्लिक कर देखें किसे कौन सा जिला मिला ।

GOVERNMENT ORDER, BSA, TRANSFER : शासन स्तर से 33 जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले, क्लिक कर देखें किसे कौन सा जिला मिला ।

➡  यूपी में 33 बीएसए के तबादले 

डॉ अमरकांत सिंह-बीएसए लखनऊ बनाए गए

प्रवीण मणि त्रिपाठी-बीएसए कानपुर नगर बने

जय सिंह-बेसिक शिक्षा निदेशक कार्यालय भेजे गए

जय प्रताप सिंह-बीएसए वाराणसी बने  

राजेश श्रीवास-बीएसए गाजियाबाद

सतीश कुमार-बीएसए हमीरपुर बने

अमित कुमार सिंह- बीएसए भदोही बने

महेश प्रताप सिंह- बीएसए महोबा बने

दीपिका चतुर्वेदी- बीएसए कन्नौज बनीं

ओंकार राणा- बीएसए श्रावस्ती बने

अखंड प्रताप सिंह-निदेशालय भेजे गए

श्याम किशोर तिवारी- बीएसए बहराइच 

रमाकांत वर्मा- बीएसए एटा बने 

सत्येंद्र कुमार सिंह- बीएसए संतकबीरनगर

अरूण कुमार- बीएसए बस्ती 

माया सिंह-निदेशालय लखनऊ भेजी गई

दिनेश यादव- बीएसए मुजफ्फनरगर बने

चंद्रकेश यादव-निदेशालय लखनऊ भेजे गए

ऐश्वर्या लक्ष्मी- बीएसए रामपुर बनीं

राम सिंह- बीएसए सिद्धार्थनगर बने

मनी राम सिंह-निदेशालय लखनऊ भेजे गए

प्रताप नारायण सिंह- बीएसए रायबरेली बने

संजय कुमार शुक्ल- निदेशालय लखनऊ भेजे गए

सूर्य प्रकाश सिंह—बीएसए औरैया

शिव प्रसाद यादव-वरिष्ठ प्रवक्ता प्रशिक्षण संस्थान कानपुर

संतोष कुमार सिंह- वरिष्ठ प्रवक्ता प्रशिक्षण संस्थान इलाहाबाद

अजीत कुमार- वरिष्ठ प्रवक्ता प्रशिक्षण संस्थान बरेली 

राकेश सिंह- वरिष्ठ प्रवक्ता प्रशिक्षण संस्थान गाजीपुर

अरविंद कुमार- वरिष्ठ प्रवक्ता प्रशिक्षण संस्थान मुजफ्फरनगर





Wednesday, May 30, 2018

MEETING, CIRCULAR : माननीय बेसिक शिक्षा मंत्री उ0प्र0 की अध्यक्षता में दिनाँक 07-06-2018 को मासिक समीक्षा बैठक के सम्बंध में आदेश

MEETING, CIRCULAR : माननीय बेसिक शिक्षा मंत्री उ0प्र0 की अध्यक्षता में दिनाँक 07-06-2018 को मासिक समीक्षा बैठक के सम्बंध में आदेश



GOVERNMENT ORDER, BEO, TRANSFER : एक सौ तीस खण्ड शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले, क्लिक करके पूरी सूची के साथ जारी आदेश देखें ।

GOVERNMENT ORDER, BEO, TRANSFER : एक सौ तीस खण्ड शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले, क्लिक करके पूरी सूची के साथ जारी आदेश देखें ।



GOVERNMENT ORDER, CIRCULAR, SCHOOL : गोद लिये गये प्राथमिक / उच्च प्राथमिक विद्यालयों की सूचना साफ्ट कापी ( Excel Format) मेंं भेजने के सम्बन्ध ।

GOVERNMENT ORDER, CIRCULAR, SCHOOL : गोद लिये गये प्राथमिक / उच्च प्राथमिक विद्यालयों की सूचना साफ्ट कापी ( Excel Format) मेंं भेजने के सम्बन्ध ।



Tuesday, May 29, 2018

GOVERNMENT ORDER, TRANSFER : वित्त एवं लेखा सेवा विभाग के 8900 ग्रेड पे के 15 अधिकारियों के स्‍थानान्‍तरण के सम्बन्ध में जारी आदेश क्लिक कर देखें ।

GOVERNMENT ORDER, TRANSFER : वित्त एवं लेखा सेवा विभाग के 8900 ग्रेड पे के 15 अधिकारियों के स्‍थानान्‍तरण के सम्बन्ध में जारी आदेश क्लिक कर देखें ।







GOVERNMENT ORDER, TRANSFER, वित्त एवं लेखा सेवा संवर्ग के 7600 ग्रेड पे के 38 अधिकारियों के स्‍थानान्‍तरण, क्लिक कर जारी आदेश देखें

GOVERNMENT ORDER, TRANSFER, वित्त एवं लेखा सेवा संवर्ग के 7600 ग्रेड पे के 38 अधिकारियों के स्‍थानान्‍तरण, क्लिक कर जारी आदेश देखें













GOVERNMENT ORDER, IGRS, BASIC SHIKSHA NEWS : समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली (IGRS) जनसुनवाई के अंतर्गत लम्बित सन्दर्भों के तत्काल निस्तारण के सम्बन्ध में कड़ा आदेश/निर्देश जारी ।

GOVERNMENT ORDER, IGRS, BASIC SHIKSHA NEWS : समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली (IGRS) जनसुनवाई के अंतर्गत लम्बित सन्दर्भों के तत्काल निस्तारण के सम्बन्ध में कड़ा आदेश/निर्देश जारी ।



MAN KI BAAT : पाठ्यपुस्तक की शुरुआत उन साधारण, रोजमर्रा की समस्याओं और घटनाओं से होती है जिनका सामना आम तौर पर सभी बच्चे करते हैं, जैसे कि अचानक.......

MAN KI BAAT : पाठ्यपुस्तक की शुरुआत उन साधारण, रोजमर्रा की समस्याओं और घटनाओं से होती है जिनका सामना आम तौर पर सभी बच्चे करते हैं, जैसे कि अचानक.......


◼️ पाँचवीं कक्षा की ईवीएस की पाठ्यपुस्तक

यह पाँचवीं के पर्यावरण अध्ययन विषय की पाठ्यपुस्तक का विश्लेषण है। पाठ्यपुस्तक का यह संस्करण एन.सी.ई.आर.टी. द्वारा 2008 में प्रकाशित किया गया था। इस किताब की जो वृहत संरचना है उसमें तो आमुख,आभार, पाठ्यपुस्तक निर्माण समिति की सूची और विषय-सूची जैसे जाने-पहचाने अंश दिखाई देते हैं। लेकिन इसमें बाल अधिकार बिल जैसे अतिरिक्ति अंश भी हैं और शिक्षकों व माता-पिता के लिए एक विस्तृत टिप्पणी भी। इस चार पन्नों की विवरणात्मक टिप्पणी में किताब के उद्देश्य, उसकी विषय वस्तु और बच्चों के साथ शिक्षकों के काम करने के तरीकों का संक्षिप्त वर्णन है। यह टिप्पणी इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह, इस विषय-विशेष को सीखने का रूप क्या होगा, इसे तय करती है।

इस  किताब  की  संरचना और विषयवस्तु एन.सी.एफ.2005 के उन तत्वों को प्रतिबिम्बित करती है जिनका वर्णन  पाठ्यचर्या,  पाठ्यक्रम और पाठ्यपुस्तक पर बने आधारपत्र में किया गया है। इसमें जो सबसे प्रासंगिक बदलाव देखा जा सकता है वह है पाठ्यपुस्तक से हटकर‘सीखने-सिखाने की सामग्री’ को अपनाना जैसा कि इस लेख के बाद के हिस्से में दिए गए उदाहरणों से स्पष्ट होता है। इस लेख में चर्चा की गई है कि आगे उल्लिखित इन मुद्दों को लेकर पाठ्यपुस्तक के क्या आशय हैं, जैसे कि सीखना कैसा होना चाहिए, सीखने के अन्तर्निहित सिद्धान्त और उद्देश्य, स्थानीय ज्ञान, पाठ्यचर्या का समाकलन (integration), शैक्षणिक स्थल (pedagogic sites)तथा शिक्षकों से अपेक्षाएँ। इनके अलावा, इस लेख में जाति, वर्ग, जेंडर और धर्म के वर्णन के सन्दर्भ में पाठ्यपुस्तक के समाजशास्त्रीय पहलुओं का भी विश्लेषण किया गया है।

पाठ्यपुस्तक में सीखना किस तरह से अन्तर्निहित है?

कुछ पाठों का विस्तार से अध्ययन करने तथा पूरी किताब को सरसरी तौर से देखने पर इसकी पाँच प्रमुख विशेषताएँ दिखाई देती हैं:

रटने से बचाती है :पाठ्यपुस्तक की विषयवस्तु में किसी भी तरह के रटने से बचा गया है। इसमें अगर तथ्यों और अवधारणाओं को जगह दी भी गई है तो बहुत ही कम। ऐसी अपेक्षा की गई है कि सीखने की विषयवस्तु को सिर्फ बच्चों की सोच के माध्यम से ‘निर्मित’ किया जाएगा। और इसी से इस किताब की दूसरी सबसे महत्वपूर्ण विशेषता निकलती है जिसे अगले बिन्दु में दर्शाया गया है।

बच्चों के सोचने और सहजबोध को प्रेरित करती है :

पाठ्यपुस्तक बच्चों को चीजों और घटनाओं का अवलोकन करने और सोचने के लिए प्रेरित करती है, और रोजमर्रा की सामान्य घटनाओं के बारे में शिक्षकों की मदद से उन्हें खुद अपने तर्क विकसित करने में सहयोग करती है। यह पाठ्यपुस्तक जटिल अवधारणाओं का अर्थ लगाने में बच्चों के सहजबोध को उपयोग करने का मौका देती है और उसमें मदद करती है। इसका एक उदाहरण है, ‘दक्षिणी गोलार्ध में लोग धरती की सतह से नीचे क्यों नहीं गिर जाते?’

सामूहिक और व्यक्तिगत गतिविधियों के बीच सन्तुलन :

पाठ्यपुस्तक में सामूहिक और स्वयं करने वाली प्रायोगिक गतिविधियों के बीच सन्तुलन है। उदाहरण के लिए, एक गतिविधि में बच्चों को ध्यान से देखना है कि अगर खाने की कोई चीज गिर जाए तो उसे खाने के लिए चींटियाँ कितनी जल्दी आती हैं। लेकिन बैठकर किए जाने वाले व्यक्तिगत काम भी समान रूप से मौजूद हैं, उदाहरण के लिए, ‘ऐसे लोगों का संक्षिप्त विवरण लिखें जो अपनी आजीविका के लिए जानवरों पर निर्भर करते हैं, जैसे कि सपेरे’।

अवधारणाओं की श्रेणीबद्ध जटिलता :

पाठ्यपुस्तक की शुरुआत उन साधारण, रोजमर्रा की समस्याओं और घटनाओं से होती है जिनका सामना आम तौर पर सभी बच्चे करते हैं, जैसे कि अचानक होने वाली आवाज पर कुत्ते कैसी प्रतिक्रिया देते हैं। फिर पाठ्य वस्तु धीरे-धीरे ज्‍यादा जटिल, अपरिचित परिवेशों, जैसे कि कोई किला या अन्तरिक्ष तक भी जाती है।

अवधारणाओं का नैतिक और भावात्मक स्वर :

गतिविधियाँ पूर्णत: नैदानिक (clinical)  अवलोकन पर आधारित गतिविधियाँ नहीं हैं। वे बच्चे को किसी भाव को महसूस करने के लिए, न्याय के पहलुओं के बारे में सोचने के लिए इस ढंग से प्रेरित करती हैं जो इस पाठ्यचर्या को पढ़ने वाले बच्चों की उम्र के अनुकूल हों। उदाहरण के लिए,धान के खेत पर काम करने वाले गरीबी में जीने को बाध्य मज़दूर, जिसके पास धान के खेत में जी तोड़ मेहनत करने के बाद भी खुद के खाने के लिए पर्याप्त नहीं है, पर चर्चा करने से मुझे लगता है बच्चों में सहानुभूति का एहसास पैदा होगा। साथ ही, उनका ध्यान इस स्थिति के नैतिक पक्षों की तरफ भी जाएगा।

ऊपर दी गई विशेषताएँ यह दर्शाती हैं कि ई.वी.एस. की पाठ्यचर्या बच्चों को उनके परिवेश को समझने, उसके प्रति संवेदनशील होने, और उसके प्रति उत्सुकता भरी सजगता विकसित करने के लिए प्रेरित करती है। इसमें परिभाषाओं या अवधारणाओं को रटने पर कतई ज़ोर नहीं दिया गया है बल्कि इस बात की कोशिश की गई है कि बच्चे अवलोकन और सोचने की विचार प्रक्रियाओं के माध्यम से उनके चारों ओर के परिवेश को समझें। इस प्रक्रिया में उन्हें विविध प्रकार की गतिविधियों और/या प्रयोगों की मदद मिल सकती है।

पाठ्यपुस्तक की बनावट का समग्र दृष्टिकोण

इस पाठ्यपुस्तक में दिखाई देने वाले दृष्टिकोण (जिसका वर्णन ऊपर किया गया है) का आधार रोशैल मेयर और लॉरैन्स कोह्लबर्ग का प्रगतिवाद है, जो कहता है :

बाहरी दुनिया, यानी समाज या प्राकृतिक परिवेश, के साथ बच्चों की ‘स्वाभाविक पारस्परिक क्रिया’ इस तरह से होना चाहिए जिसके द्वारा वास्तविक समस्याओं या संघर्षों को हल करने का प्रयास हो।


शैक्षिक अनुभव के माध्यम से बच्चे सोचने लगते हैं, ऐसे तरीकों से जो संज्ञान और भाव, दोनों व्यवस्थित करते हैं।


विभिन्न  प्रकार  की  विचारोत्तेजक कहानियों, गतिविधियों और अवलोकन कार्यों के माध्यम से यह पाठ्यपुस्तक प्रगतिवाद के पहलुओं को निरूपित करने के साथ ही उसमें इस विचार को आधार बनाकर संघर्ष की स्थितियों को भी शामिल करती है, कि ‘ऐसा शैक्षणिक परिवेश जो हल की जा सकने वाली लेकिन वास्तविक समस्याओं और संघर्षों को प्रस्तुत करता है, वह बच्चों के विकास को सक्रिय रूप से प्रेरित करता है’।

उदाहरण

पाठ 2 में आर्यनाथ की कहानी :

आर्यनाथ के दादा सपेरे थे जो साँपों को पालकर अपनी आजीविका चलाते थे। इस कहानी में सपेरों के पेशे, एक समय में समाज में उनकी उपयोगिता -- जिन्‍दगी बचाने के लिए भी और मनोरंजन के लिए भी -- तथा आधुनिकीकरण के परिणामस्वरूप हुए उनके पतन, इन सभी बातों की पड़ताल  की कोशिश की गई है। पर्यावरण, स्थानीय ज्ञान (औषधि के रूप में साँप के विष का प्रयोग) और स्थानीय संस्कृति (कालबेलिया नृत्य, बीन) तथा जानवरों के संरक्षण के मुद्दे को एक ही कहानी में बड़े सुसंगत ढंग से पिरो दिया गया है। यह कहानी शिक्षक के लिए पर्यावरण से जुड़े कई सारे मुद्दों और समस्याओं को छूने का एक शुरुआती बिन्दु हो सकती है।

पाठ 6 में पानी की कमी की चर्चा :

इस किताब में प्रगतिवाद का समर्थन करने वाला एक और उदाहरण है जो वास्तविक जीवन में पानी की कमी और उसे रोजमर्रा की जिन्‍दगी से जोड़कर दिखाता है। पानी के उपयोग और उसकी आपूर्ति, साफ और पीने योग्य पानी उपलब्ध कराने में सरकार की भूमिका, गाँवों में इसकी अत्यधिक कमी को ‘समस्या’ के ढंग से पेश किया गया है। बच्चों से अपेक्षा की गई है कि वे पानी की समस्याओं पर चर्चा करें और इस विषय में गहरे उतरें। पाठ में राजस्थान की महिला दड़की माई की सफलता की कहानी भी बयान की गई है। अपने गाँव में पानी की कमी से जुड़े उसके संघर्षों और अन्त में मिली सफलताओं का उल्लेख किया गया है।

जहाँ  प्रगतिवादी  विचार  इस पाठ्यपुस्तक का आधार है वहीं इसकी रूपरेखा में जॉन ड्यूई की यह मान्यता भी प्रतिबिम्बित होती है कि ‘बच्चे तो जन्मजात बहुत सक्रिय होते हैं, और उनके भीतर चीजों के बारे में पड़ताल करने की, उन्हें जो कुछ भी पता चलता है उसे दूसरों के साथ बाँटने की, व्यावहारिक चीजें बनाने की, और सृजन करने की ज़बरदस्त प्रेरणा होती है।’ जैसा लॉरेन टैनर ने कहा है,बच्चों की गतिविधियाँ अन्तत: ‘ऐसे तथ्यों और सिद्धान्तों तक ले जाएँगी जिन्हें विज्ञान, इतिहास और साहित्य कहा जाता है जो व्यवस्थित रूप में स्थापित ज्ञान की विधाएँ हैं।’इस पाठ्यपुस्तक में दी गई गतिविधियों की संख्या से यह बात स्पष्ट हो जाती है।

पाठ्यपुस्तक में समाकलन

इस पाठ्यपुस्तक में अलग-अलग थीम (मुद्दों) पर आधारित समाकलन के स्पष्ट संकेत देखने को मिलते हैं। ‘नोट फॉर टीचर्स एण्ड पैरेन्ट्स’ नामक खण्ड  में  अलग-अलग  थीम पर आधारित पाठ्यपुस्तक की संरचना का वर्णन इस प्रकार किया गया है:

परिवार एवं मित्र (उप-थीम समेत)

🔴 भोजन


🌑 पानी


🌕 आवास


🔵यात्रा


हम चीजें कैसे बनाते हैं


रिचर्ड प्रिंग पाठ्यचर्या के समाकलन के चार दार्शनिक तरीके बताते हैं। विषयवस्तु  के  माध्यम  से,  थीम-आधारित होने पर, व्यावहारिक सोच के माध्यम से और विद्यार्थियों की खुद की पूछताछ के माध्यम से। वैसे, इस पाठ्यपुस्तक में जो समाकलन दिखाई देता है वह पूर्ण रूप से तो प्रिंग द्वारा वर्णित किसी भी मॉडल के जैसा नहीं है। प्रिंग के थीम-आधारित समाकलन में एक अकेली थीम की बात की गई है जिसके इर्दगिर्द पूरी पाठ्यचर्या की रचना की जा सकती है -- उदाहरण के लिए, ‘क्रान्तियाँ’। इस पाठ्यपुस्तक में  दिखने  वाले  थीम-आधारित समाकलन में कई थीम शामिल हैं, जो पर्यावरण अध्ययन के वृहत मुद्दे से जुड़ी हैं, और हर थीम के अन्तर्गत कुछ अध्याय हैं।

स्थानीय ज्ञान और बाहरी (कक्षा के बाहर का) ज्ञान का संयोजन

पाठ्यपुस्तक में स्थानीय और बाहरी, दोनों तरह के ज्ञान पर ध्यान दिया गया है। पर साथ ही यह ध्यान में रखना भी जरूरी है कि हमारे देश में विविधतापूर्ण और  बहुत  अधिक विषमताओं वाली आबादी के कारण, किसी एक राज्य या क्षेत्र का स्थानीय ज्ञान किसी अन्य क्षेत्र के लोगों को‘विदेशी’ और विचित्र लग सकता है। इसका अर्थ यह हुआ कि आँध्र प्रदेश के किसी बच्चे के लिए गोलकोण्डा के किले का अध्ययन (पाठ 10 -- बोलती इमारतें) स्थानीय ज्ञान हो सकता है, लेकिन असम के किसी विद्यार्थी के लिए यह जरूरी भले ही हो लेकिन बेगाना-सा हो सकता है। इस भिन्नता से निपटने के लिए पाठ्यपुस्तक में ज्‍यादा-से-ज्‍यादा राज्यों को शामिल करने की कोशिश की गई है।

पाठ्यपुस्तक में स्थानीय ज्ञान की मौजूदगी के कुछ उदाहरण प्रस्तुत हैं :

पाठ 3 -- चखने से पचने तक : इमली का जिक्र किया जाना और यह बताना कि छोटे बच्चों को इमली खाना कितना अच्छा लगता है, कक्षा के बाहर ज्ञान की पहचान करने का अच्छा उदाहरण है। यह एक ऐसा अनुभव है जो अधिकांश बच्चों ने लिया होगा। पाठ को इस तरह की चर्चा से शुरू करना कक्षा के बाहर के ज्ञान का अच्छा उदाहरण है।

पाठ 4 -- खाएँ आम बारह महीने इस पाठ में आमों की और उनके विभिन्न उपयोगों की चर्चा की गई है। यह बताया गया है कि किस तरह भारत के अलग-अलग राज्यों में आम से अचार, मुरब्बा इत्यादि बनाए जाते हैं। पाठ में आगे कहानी की शक्ल में आँध्र प्रदेश में लोकप्रिय ‘मामिडी ताण्ड्रा’ कहलाने वाले आम पापड़ों को बनाने की विधि का वर्णन है। इन बातों का वर्णन करके कि आम को किस तरह पकाया जाता है, सुखाया जाता है, और किस तरह उसे संरक्षित किया जाता है, उस पुराने ज्ञान से बच्चों को अवगत कराया गया है जिसका लिखित वर्णन और कहीं नहीं मिलता। यह भी स्थानीय ज्ञान का अच्छा उदाहरण है।

पाठ 13 -- बसेरा ऊँचाई पर : इस पाठ में ऊँचाइयों पर जीवन कैसा होता है, इसके बारे में कहानी की शक्ल में अच्छी-खासी मात्रा में स्थानीय ज्ञान को शामिल किया गया है। इस कहानी में बताया गया है कि किस प्रकार याक के बालों का इस्तेमाल करके टेंट बनाए जाते हैं जिन्हें रेबो कहा जाता है। इनका ढाँचा ऐसा होता है जो उस परिवेश के अनुकूल है। रेबो की दीवारों का उपयोग, हर घर में कितने जानवर हैं इसका हिसाब रखने के खास तरीके, ये सभी स्थानीय ज्ञान का ही नमूना हैं।

पाठ्यपुस्तक में भारत के अलग-अलग हिस्सों के लोगों की कई कहानियाँ भी हैं -- चाहे उड़ीसा के कालाहाँडी में किसी धान के खेत में काम करने वाली गोमती हो, या फिर झारखण्ड की लड़की, सूर्यमणि, जिसने खूब मेहनत से पढ़ाई करके बी.ए. की डिग्री हासिल की। हालाँकि, इन कहानियों के सन्देश अलग-अलग हैं, लेकिन इनके सन्दर्भ ऐसे हैं कि उनमें उन इलाकों का स्थानीय ज्ञान प्रचुरता से दिखाई देता है।

शैक्षणिक स्थल

शिक्षा  केवल  कक्षा  तक  या पाठ्यपुस्तक की विषयवस्तु तक सीमित नहीं होती। बल्कि यह रोजमर्रा के तमाम अनुभवों का योग होती है। इस मत के अनुरूप इस पाठ्यपुस्तक में इस तरह के अनुभवों के कई उल्लेख हैं, या तो चर्चाओं के माध्यम से, या कहानियों के माध्यम से या फिर गतिविधियों के माध्यम से।

हालाँकि, किताब में बच्चों को संग्रहालय ले जाने या भ्रमण पर ले जाने के विशिष्ट निर्देश नहीं दिए गए हैं, लेकिन चर्चाओं और गतिविधियों के माध्यम से उनके सीखने को बाहर की दुनिया से जोड़ा गया है। इस अर्थ में यह कहा जा सकता है कि किताब में कई शैक्षणिक स्थलों का उल्लेख है। सबसे ज्‍यादा उल्लेख तो बच्चों के घरों का ही है जिन्हें निश्चित ही शैक्षणिक स्थल कहा जा सकता है। एक शैक्षणिक स्थल के रूप में घर का बहुत महत्व है क्योंकि इससे बच्चों को यह समझने का मौका मिलता है कि ज्ञान तो अखण्ड है। स्कूल में जो कुछ भी सीखा जाता है वह कुछ इतना अलग नहीं होता जिससे अभिभूत हुआ जाए। उदाहरण के लिए :

पाठ 19 -- किसानों की कहानीबीज की जुबानी :बीजों और अनाजों की चर्चा के माध्यम से, घर पर बच्चे क्या खाते हैं और पाठ में क्या पढ़ाया जा रहा है, इन दोनों बातों को शिक्षक जोड़ देते हैं। यहाँ घर (और रसोई) शैक्षणिक स्थल बन जाते हैं।

पाठ 10 -- बोलती इमारतें : जैसा कि ऊपर कहा गया है,पाठ्यपुस्तक में शैक्षणिक भ्रमण के निर्देश नहीं दिए गए हैं,लेकिन अगर शिक्षक या स्कूल इसके लिए उपयुक्त व्यवस्थाएँ कर सकें तो पाठ्यपुस्तक में इसके लिए मौके दिए गए हैं। इस पाठ में बताया गया है कि बच्चों के एक छोटे समूह ने आँध्र प्रदेश स्थित गोलकोंडा किले के चमत्कार को जाना। इसके बाद जो चर्चाएँ होती हैं उनमें बच्चों को प्रेरित किया गया कि वे अपने स्थानीय परिवेश में स्मारकों की खोज करें। यह कक्षा का ही एक विस्तार है जहाँ पर बच्चों के आसपास के स्थानों को शैक्षणिक स्थल के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

समाजशास्त्रीय चश्मा

यह पाठ्यपुस्तक पहले वाली पाठ्यपुस्तकों की तुलना में इस दृष्टि से बहुत अलग है कि इसमें भूगोल, वर्ग और जेंडर के सन्दर्भ में समाज का प्रतिनिधित्वमिलेजुले रूप में किया गया है। किताब में खुले ढंग से जाति का उल्लेख तब तक नहीं किया गया है जब तक कि बिलकुल जरूरी न हो, और ऐसा उल्लेख भी एकदम स्वाभाविक ढंग से किया गया है। पाठ्यपुस्तक में वर्ग और जेंडर से जुड़ी बँधी-बँधाई धारणाओं का सहारा भी नहीं लिया गया है। उदाहरण के लिए, इसमें कहीं भी शहर के लड़के को अच्छे कपड़े पहने हुए, या फिर गाँव के लड़के को एकदम दुबला-पतला नहीं दिखाया गया है। बल्कि, पाठ्यपुस्तक में ऐसी कहानियों और चर्चाओं को शामिल करने का प्रयास किया गया है जो समाज में महिलाओं की बदलती (या यह कहें कि बदल चुकी) भूमिका को दिखाती  हैं,  चाहे सुनीता विलियम्स की अन्तरिक्ष यात्रा की बात हो या फिर झारखण्ड की युवा महिला, सूर्यमणि की कहानी हो।

अच्छा होगा अगर शिक्षक बच्चों का ध्यान इस बात की ओर दिलाएँ कि भले ही सुनीता और सूर्यमणि बहुत अलग-अलग सामाजिक वर्ग से नाता रखती हैं, लेकिन समाज के विस्तृत दायरे के एक छोर से दूसरे छोर तक महिलाओं की स्वतंत्र निर्णय लेने और उन पर चलने की क्षमता समान होती है। यहाँ थोड़ी मुश्किल इसलिए है कि बच्चों (लड़कियों) को अपने आप को इस विस्तृत दायरे का हिस्सा मानना चाहिए, ना कि अपने आपको इसके इतर समझना चाहिए।

किताब में इसके कुछ बहुत अच्छे उदाहरण हैं, जैसे खेलों में लड़कियों की भागीदारी पर आधारित पाठ (पाठ 17 --अक्रॉस द वॉल) और ‘गर्ल स्टार्स’ पर लिखा गया पाठ (पाठ20 -- किसके जंगल?)।

धर्म और जाति पर :

पाठ्यपुस्तक में बच्चों के जो नाम हैं वे चारों प्रमुख धर्मों -- हिन्दू धर्म, इस्लाम, ईसाइयत और सिख धर्म -- का प्रतिनिधित्व करते हैं। लेकिन पारसी समुदाय जैसे अन्य अल्पसंख्यकों का कोई जिक्र किताब में नहीं मिलता।

जेंडर पर :

किताब में जहाँ महिलाओं को अपने अलग-अलग कार्यक्षेत्रों  में सफल व्यक्तियों के रूप में दिखाया गया है,वहीं इसमें ऐसे अनेक चित्र भी हैं जो महिलाओं को खेतों में काम करते हुए, घर पर काम करते हुए (हमेशा ही खाना बनाते हुए), घर से बाहर काम करते हुए, और बच्चों की देखभाल करते हुए दिखाते हैं। पृष्ठ 149 पर एक बड़ा चित्र है जिसमें विभिन्न तरह के काम होते दिखाए गए हैं, और इनमें से ज्‍यादातर काम साड़ी या कोई अन्य पारम्परिक परिधान पहने महिलाएँ कर रही हैं। इस चित्र में महिलाओं को सड़क पर झाड़ू लगाते हुए, खरीदारी करते हुए, खाना बनाते हुए, स्कूल में पढ़ाते हुए, सब्ज़ी बेचते हुए, डॉक्टर के रूप में, प्रयोगशालाओं में, तथा अन्य काम करते हुए दिखाया गया है। यहाँ पर अगर सन्तुलन दिखाया होता तो और अच्छा होता -- उदाहरण के लिए, ऐसा चित्र ज्‍यादा समावेशी होता जहाँ किसी माँ की जगह पिता अपने बच्चे को गोद में लिए हुए है या उसे खाना खिला रहा है।

वर्ग पर :

हालाँकि, पाठ्यपुस्तक में ऐसे कोई भी उदाहरण या परिस्थितियों का उल्लेख नहीं किया गया है जो शहरी, उच्च वर्ग के लोगों की ओर इशारा करती हों, लेकिन फिर भी ऐसा कहीं नहीं लगता कि इसमें किसी खास आबादी का पक्ष लिया जा रहा है या उसका प्रतिनिधित्व किया जा रहा है।

किताबें व शिक्षकों से अपेक्षा

इस पाठ्यपुस्तक में ढेर सारी गतिविधियाँ और कहानियाँ/किस्से दिए गए हैं। यह तो स्पष्ट है कि बच्चों के समक्ष किन अवधारणाओं को रखना है, लेकिन इसके लिए अपनाया गया तरीका काफी लचीला रखा गया है जो कमज़ोर संरचना की निशानी है। किताब में दी गई गतिविधियाँ और कहानियाँ वह मुख्य सामग्री है जिसे शिक्षक को पूरा कराना है लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि इन्हें कराने की गति क्या होगी या उन्हें किस क्रम में इन्हें कराया जाएगा, यह चुनाव शिक्षक पर छोड़ा गया है। किताब की प्रकृति निर्देशात्मक नहीं है, यह इस बात से स्पष्ट हो जाता है कि शिक्षक को उन अवधारणाओं को छूने की जरूरत नहीं है जिनकी ‘परीक्षा’अध्याय के अन्त में प्रश्नों के माध्यम से ली जाएगी।

किताब की संरचना का स्तर कमजोर है, यह गतिविधियों के प्रकार देखकर स्पष्ट हो जाता है। इनमें कुछ गतिविधियाँ ऐसी हैं जिनमें बहुत सरल-से प्रयोग करना हैं जैसे फर्श पर खाने की कोई चीज गिरने पर चींटियाँ किस तरह प्रकट हो जाती हैं। ऐसे में कक्षा की प्रगति इस बात पर निर्भर करती है कि इन चर्चाओं में बच्चों की प्रतिक्रिया क्या रहती है।

पाठ्यपुस्तक में हर अध्याय के बाद फुटनोट दिए गए हैं जिनमें शिक्षकों के लिए संकेत दिए गए हैं। इसके अलावा,किताब में निम्नलिखित आशय जरूर निहित हैं :

1-शिक्षक ध्यानपूर्वक और परिश्रम से काम करते हुए इन गतिविधियों को कराने में बच्चों की मदद करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि गतिविधियों में और उसके बाद होने वाली चर्चाओं में हर एक बच्चा भाग ले।


2-यह जरूरी होगा कि शिक्षक विभिन्न विचारों को चर्चाओं में मौका दें और अगर बच्चों के सवाल हों तो उन सवालों पर ध्यान दें। हो सकता है कि बच्चे उनसे जो सवाल पूछें,उनका विश्लेषण करने के लिए विशेष कौशलों की जरूरत पड़े और उनका जवाब देते समय वैज्ञानिक सोच का इस्तेमाल करना पड़े। उदाहरण के लिए, उन्हें यह पता होना चाहिए कि चींटियाँ सर्दियों के लिए खाना क्यों इकट्ठा करती हैं, या फिर दक्षिणी गोलार्ध में लोग धरती की सतह पर से नीचे क्यों नहीं गिर जाते।


3-शिक्षकों से अपेक्षा है कि वे पाठ्यपुस्तक में उठाए गए कुछ विवादास्पद प्रश्नों का सन्तुलित और सामाजिक रूप से जिम्मेदारी भरा जवाब दे पाएँगे। जैसे, इन्द्रियों पर तैयार किए गए पाठ में एक उदाहरण है जहाँ एक महिला बहुत इतमीनान से अपने छह महीने के बच्चे का डाइपर बदल रही है लेकिन जब उसे अपनी बहन के बच्चे का डाइपर बदलना पड़ा तो वह दुर्गन्ध के कारण अपनी नाक सिकोड़ लेती है। यह एक संवेदनशील मसला है और इस पर बात करने के लिए एक खास स्तर के विवेक और संवेदनशीलता की आवश्यकता है।


शिक्षकों को यह बात भी ध्यान में रखना होगी कि यह पाठ्यपुस्तक अगले साल की विज्ञान की पाठ्यचर्या की तैयारी भी कराती है। इसलिए यह जरूरी है कि अवधारणाओं के ज्ञान पर तथा वैज्ञानिक मिज़ाज के विकास पर ध्यान दिया जाए।

निष्कर्ष

पाठ्यचर्या,   पाठ्यक्रम  और पाठ्यपुस्तकों पर बने एन.सी.एफ. 2005 के आधारपत्र में अन्य सिद्धान्तों के अलावा दो खास सिद्धान्तों पर तवज्जो दी गई है। एक, कि बच्चे खुद अपने ज्ञान का निर्माण करते हैं, और दूसरा, कि सीखने में अनुभव की अत्यन्त महत्वपूर्ण  भूमिका  होती है।  यह पाठ्यपुस्तक इन दोनों सिद्धान्तों पर खरी उतरती है। इसमें बच्चों को प्रयोग करने, परिकल्पनाएँ बनाने,तार्किक ढंग से अनुमान लगाने, विचारों और खोज-कार्यों को साझा करने आदि के मौके दिए गए हैं।

तो यह कहा जा सकता है कि इस पाठ्यपुस्तक में वे सभी तत्व हैं जो अगली कक्षा में विज्ञान का विषय पढ़ने के लिए बच्चों की तैयारी कराएँगे।

पूनम मेध : टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज़, मुम्बई से प्राथमिक शिक्षा में एम.ए.। आईडी यानी इंसट्रक्शनल डिज़ाइन (अनुदेशात्मक अभिकल्पना) विषय की सलाहकार। यह ऐसा विषय है जो संज्ञानात्मक सिद्धान्तों का इस्तेमाल करके सीखने की ऐसी रूपरेखा तैयार करता है कि सीखना प्रभावी होने के साथ-साथ आनन्ददायक भी बने। इन्होंने सर्व शिक्षा अभियान के तहत गैर-सरकारी संगठनों के साथ काम करते हुए सीखने की डिजिटल सामग्री भी तैयार की है। पाठ के नियोजन तथा कहानियों की मदद से सीखने पर शिक्षक प्रशिक्षण कार्यशालाएँ संचालित की हैं। बच्चों के साथ कहानी सुनाने के सत्र आयोजित करने और बच्चों द्वारा सुनाई जा रही कहानियों को सुनने में विशेष रुचि।

अँग्रेजी से अनुवाद : भरत त्रिपाठी : एकलव्य, भोपाल के प्रकाशन समूह के साथ कार्यरत हैं।

लेख में आए उद्धरणों की जानकारी के लिए पाठक संदर्भ टीम या लेखक से सम्पर्क कर सकते हैं।

सभी चित्र एन.सी.ई.आर.टी. कक्षा-5 की पर्यावरण अध्ययन की किताब आस-पास से साभार।

शैक्षणिक संदर्भ अंक 113 से साभार।


पूनम मेध

http://www.teachersofindia.org/

SHIKSHAK BHARTI, EXAMINATION, ADVERTISEMENT : 68500सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा 2018 के संबंध में आख्या, क्लिक कर देखिये परीक्षार्थियों का संपूर्ण ब्यौरा

SHIKSHAK BHARTI, EXAMINATION, ADVERTISEMENT : 68500सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा 2018 के संबंध में आख्या, क्लिक कर देखिये परीक्षार्थियों का संपूर्ण ब्यौरा



SHIKSHAK BHARTI, VACANCY, EXAMINATION : परिषदीय स्कूलों की 68500 सहायक अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षाओं में गड़बड़ प्रश्न और उनके जबाब का सिलसिला रूक नहीं रहा 


इलाहाबाद : भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ प्रश्न और उनके गलत जवाब का सिलसिला रुक नहीं रहा है। शिक्षक पात्रता परीक्षा यानि टीईटी 2017 के 14 प्रश्नों का विवाद अभ्यर्थी अभी भूले नहीं थे कि सहायक अध्यापक भर्ती 2018 की लिखित परीक्षा के प्रश्नों पर सवाल उठने लगे हैं। अभ्यर्थी इम्तिहान देने के बाद साथियों, शिक्षकों व पुस्तकों के जरिए प्रश्नों के जवाब खंगालने में जुटे हैं। उन्हें करीब आधा दर्जन से अधिक ऐसे प्रश्न मिले हैं, जो गलत हैं या फिर प्रश्नों के दो-दो जवाब भी सही हैं।




परिषदीय स्कूलों की 68500 सहायक अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षा में 150 प्रश्न पूछे गए। इनमें से अधिकांश सवालों का पैटर्न टीईटी की तर्ज पर रहा है, हालांकि इस परीक्षा का पाठ्यक्रम टीईटी की अपेक्षा वृहद रहा है। ज्ञात हो कि टीईटी में चार से छह विषयों के सवाल होते हैं, जबकि इसमें 14 विषयों पर आधारित प्रश्न पूछे गए। सामान्य अध्ययन का एक सवाल था कि भारत के 21वें मुख्य चुनाव आयुक्त कौन हैं? मुख्य चुनाव आयुक्तों की सूची में 21वें नंबर पर अचल कुमार ज्योति रहे हैं, जो कार्यकाल पूरा कर चुके हैं। ऐसे में यह प्रश्न ही गलत हो गया, पूछा जाना चाहिए था कि कौन थे? 



इसी तरह से भारत कला केंद्र कहां स्थित है? इस प्रश्न का किताब व वेबसाइट पर अलग-अलग जवाब है। कुछ में वाराणसी तो वेबसाइट पर भोपाल दर्ज है। तर्कशक्ति के सवालों में भी ऐसे कई प्रश्न पूछे गए, जिनके दो उत्तर हो सकते हैं। अभ्यर्थी ऐसे प्रश्नों व उनसे जुड़े जवाब की सूची तैयार करने में जुटे हैं। सभी की निगाहें पांच जून को जारी होने वाली उत्तरकुंजी पर टिकी हैं, उसके बाद ही वह अगला कदम उठाएंगे।




परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव डा. सुत्ता सिंह ने बताया कि परीक्षा के प्रश्नों को तय करने में काफी सावधानी बरती गई, फिर भी यदि किन्हीं प्रश्नों पर विवाद होगा तो उचित निर्णय लेंगे। इस बार उत्तरकुंजी जारी करने के बाद आपत्ति लेंगे और उनका भली प्रकार परीक्षण कराने के बाद संशोधित उत्तरकुंजी जारी करेंगे। जब अभ्यर्थियों की आपत्तियां खत्म हो जाएंगी, उसके बाद ही उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन कराएंगे, ताकि रिजल्ट में किसी तरह का विवाद न रहे। इसी वजह से परीक्षा व परिणाम में अंतर रखा गया है।

SHIKSHAK BHARTI, VACANCY : 68500 सहायक शिक्षक भर्ती की उत्तर पुस्तिकाएं मंडल मुख्यालयों से परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर पहुंचना शुरू, विभाग इस बार परीक्षकों का पैनल तय करने के बाद ही मूल्यांकन कराएगा

SHIKSHAK BHARTI, VACANCY : 68500 सहायक शिक्षक भर्ती की उत्तर पुस्तिकाएं मंडल मुख्यालयों से परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर पहुंचना शुरू, विभाग इस बार परीक्षकों का पैनल तय करने के बाद ही मूल्यांकन कराएगा


शिक्षक भर्ती की उत्तर पुस्तिकाएं मंडल मुख्यालयों से परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर पहुंचना शुरू हो गई हैं। रात तक लगभग मंडलों से कॉपियां आने का दावा किया गया है, उन्हें सुरक्षित स्थान पर सीलबंद कमरे में रखा गया है। विभाग इस बार परीक्षकों का पैनल तय करने के बाद ही मूल्यांकन कराएगा।

DELED, BASIC SHIKSHA NEWS : डीएलएड 2018 के लिए 3 लाख से भी अधिक पंजीकरण, नया सत्र 2 जुलाई से शुरू करने की तैयारी।

DELED, BASIC SHIKSHA NEWS : डीएलएड 2018 के लिए 3 लाख से भी अधिक पंजीकरण, नया सत्र 2 जुलाई से शुरू करने की तैयारी।


इलाहाबाद : डीएलएड यानि पूर्व बीटीसी 2018 के लिए इस बार अब तक तीन लाख से अधिक पंजीकरण हो गए हैं। अंतिम रूप से आवेदन करने वालों की संख्या भी ढाई लाख पहुंच रही है। अभी पंजीकरण को तीन दिन का समय बाकी है, जबकि दो जून तक शुल्क जमा होगा। 11 मई से पंजीकरण चल रहे हैं, तीन लाख आठ हजार 712 पंजीकरण हो चुके हैं। दो लाख 30 हजार 717 आवेदन हो चुके हैं। 




31 मई तक पंजीकरण व दो जून तक अंतिम रूप से आवेदन होंगे। ज्ञात हो कि डीएलएड की दो लाख 11 हजार से अधिक सीटें हैं। काउंसिलिंग 14 से 29 जून तक होगी। नया सत्र दो जुलाई से शुरू करने की तैयारी है।

SAMAYOJAN, TRANSFER, BASIC SHIKSHA NEWS : बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूलों के शिक्षकों का जिले में तबादला अगस्त में संभव

SAMAYOJAN, TRANSFER, BASIC SHIKSHA NEWS : बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूलों के शिक्षकों का जिले में तबादला अगस्त में संभव


इलाहाबाद। बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूलों के शिक्षकों का जिले के अंदर ट्रांसफर और समायोजन अगस्त में संभावित है। इस संबंध में परिषद की ओर से शासन को प्रस्ताव भी भेजा जा चुका है। शासन से अनुमति मिलने के बाद प्रक्रिया शुरू होगी।


पिछले साल जून में परिषदीय शिक्षकों के तबादले के लिए नीति जारी हुई थी लेकिन तबादले और समायोजन का आधार 30 अप्रैल की छात्रसंख्या किये जाने के कारण विवाद हो गया। शिक्षकों ने यह कहते हुए हाईकोर्ट में मुकदमा कर दिया कि तबादले और समायोजन के लिए 31 जुलाई की छात्रसंख्या को आधार बनाना चाहिए। कानूनी अड़चन के कारण सत्र बीत गया और ट्रांसफर/समायोजन नहीं हो सका। अब परिषद ने नये सिरे से नीति तैयार की है। सूत्रों के अनुसार नई नीति में 30 जुलाई की छात्रसंख्या को ही आधार बनाया गया है। यही कारण है कि अगस्त में तबादला/समायोजन की बात कही जा रही है। 

GOVERNMENT ORDER, CIRCULAR, SCOUT-GUIDE : माह जुलाई/अगस्त 2018 में प्रस्तावित उ0प्र0 स्काउट गाइड संगठनात्मक कार्यक्रम आयोजन के सम्बंध में निर्देश जारी ।

GOVERNMENT ORDER, CIRCULAR, SCOUT-GUIDE : माह जुलाई/अगस्त 2018 में प्रस्तावित उ0प्र0 स्काउट गाइड संगठनात्मक कार्यक्रम आयोजन के सम्बंध में निर्देश जारी ।


ADD SCHOOL, AUDIT, CIRCULAR, DIRECTOR : अशासकीय सहायता प्राप्त नर्सरी/प्राथमिक/उच्च प्राथमिक विद्यालयों को शासन द्वारा स्वीकृत अनुदान की धनराशि का ऑडिट कराये जाने के सम्बंध में आदेश जारी ।

ADD SCHOOL, AUDIT, CIRCULAR, DIRECTOR : अशासकीय सहायता प्राप्त नर्सरी/प्राथमिक/उच्च प्राथमिक विद्यालयों को शासन द्वारा स्वीकृत अनुदान की धनराशि का ऑडिट कराये जाने के सम्बंध में आदेश जारी ।



GOVERNMENT ORDER, CIRCULAR, UDISE : यू-डायस 2017-18 की प्रगति हेतु जनपद/बीआरसी पर उपलब्ध एमआईएस इंचार्ज/कंप्यूटर ऑपरेटर की सूचना 28 मई तक उपलब्ध कराने का आदेश ।

GOVERNMENT ORDER, CIRCULAR, UDISE : यू-डायस 2017-18 की प्रगति हेतु जनपद/बीआरसी पर उपलब्ध एमआईएस इंचार्ज/कंप्यूटर ऑपरेटर की सूचना 28 मई तक उपलब्ध कराने का आदेश ।



RECENT POSTS

BASIC SHIKSHA NEWS, PRIMARY KA MASTER : अभी तक की सभी खबरें/आदेश/निर्देश/सर्कुलर/पोस्ट्स एक साथ एक जगह, बेसिक शिक्षा न्यूज ● कॉम के साथ क्लिक कर पढ़ें ।

BASIC SHIKSHA NEWS, PRIMARY KA MASTER : अभी तक की सभी खबरें/ आदेश / निर्देश / सर्कुलर / पोस्ट्स एक साथ एक जगह , बेसिक शिक्षा न्यूज ●...