Sunday, August 31, 2014

केंद्रीय कर्मचारियों का बढ़ सकता है सात फीसद महंगाई भत्ता : अब डीए बढ़कर 107 फीसद होगा-

केंद्रीय कर्मचारियों का बढ़ सकता है सात फीसद महंगाई भत्ता : अब डीए बढ़कर 107 फीसद होगा-

• तीस लाख कर्मचारी और 50 लाख पेंशनभोगी होंगे लाभान्वित

•वित्त मंत्रालय 1जुलाई से मंहगाई भत्ता बढ़ाने का रखा है प्रस्ताव

नई दिल्ली। केंद्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता (डीए) मौजूदा 100 फीसद से बढ़ाकर 107 फीसद किया जा सकता है। इस फैसले से करीब 30 लाख कर्मचारी और 50 लाख पेंशनभोगी लाभान्वित होंगे।

जानकारी के अनुसार, औद्योगिक कर्मचारियों के लिए महंगाई में बढ़ोतरी की दर एक जुलाई 2013 से 30 जून 2014 तक 7.25 फीसद रही। इसलिए सरकार अपने कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 7 फीसद कर सकती है।

श्रम मंत्रालय ने औद्योगिक कर्मचारियों के लिए मुद्रास्फीति का आंकड़ा शनिवार को जारी किया है। वित्त मंत्रालय इस साल 1 जुलाई से महंगाई भत्ता 7 प्रतिशत बढ़ाने की मंजूरी के लिए मंत्रिमंडल में प्रस्ताव रखेगा। इससे पहले, यूपीए सरकार ने भत्ता संशोधन के फार्मूले के आधार पर 28 फरवरी को एक जनवरी से महंगाई भत्ता 90 प्रतिशत से बढ़ाकर 100 प्रतिशत किया था।
हालांकि, केंद्रीय कर्मचारियों का संगठन महंगाई भत्ते में 7 प्रतिशत वृद्धि के प्रस्ताव से उत्साहित नहीं है। वे लंबे समय से महंगाई भत्ते को मूल वेतन में जोड़े जाने की मांग करते रहे हैं।

    खबर साभार : दैनिक जागरण व हिन्दुस्तान

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत संचालित राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत शिक्षा विभाग की सहभागिता हेतु दिशा निर्देश जारी -

72,825 शिक्षक भर्ती : जमकर हो रही मनमानी

72,825 शिक्षक भर्ती : जमकर हो रही मनमानी

१-डायट प्राचार्य कर रहे मनमानी

२-50 फिसदी अंक वाले ही योग्य

३-45 फिसदी वालों को दूसरे चरण में मिलेगा मौका

राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) के स्पष्ट निर्देश के बाद भी डायट प्राचार्य मनमानी से बाज नहीं आ रहे हैं।

एससीईआरटी ने 72,825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती के लिए 27 सितंबर 2011 को जारी शासनादेश में दी गई व्यवस्था के आधार पर आवेदकों को पात्र मानते हुए काउंसलिंग का निर्देश दिया है।

इसमें स्पष्ट कहा गया है कि न्यूनतम 45 फीसदी अंकों के साथ स्नातक उत्तीर्ण होने वाले प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती के लिए पात्र होंगे।
इसके बावजूद डायट 45 फीसदी अंक वालों को काउंसलिंग में शामिल नहीं कर रहे हैं, जिसको लेकर पूरे प्रदेश में बखेड़ा मचा है।

50 फीसदी अंक वाले ही योग्य:-

शासनादेश के मुताबिक शिक्षक के लिए 45 फीसदी अंक के साथ स्नातक, टीईटी पास बीएड वाले पात्र माने गए। टीईटी पास बीएड वालों ने इसके आधार पर आवेदन भी किए।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर तीन साल बाद शिक्षक भर्ती के लिए काउंसलिंग शुरू हुई तो डायट प्राचार्य मनमानी पर उतारू हो गए। डायट प्राचार्य स्नातक में 50 फीसदी अंक वालों को ही काउंसलिंग में शामिल कर रहे हैं और 45 फीसदी अंक वालों को वापस कर रहे हैं।

टीईटी उत्तीर्ण मंजुल और हरेंद्र मौर्या का कहना है कि डायट प्राचार्य मनमानी कर रहे हैं। एससीईआरटी ने प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती के लिए काउंसलिंग शुरू होने से पहले स्पष्ट निर्देश जारी किया है।

शासनादेश के बिंदु संख्या 2 क में यह स्पष्ट किया गया है कि स्नातक में 45 फीसदी अंक वाले पात्र होंगे, लेकिन डायट प्राचार्य मानने को तैयार नहीं हैं।

दूसरे चरण में मिलेगा मौका:-

एससीईआरटी के निदेशक सर्वेंद्र विक्रम सिंह का कहना है कि डायटों से 45 फीसदी अंक वालों को वापस करने की जानकारी उन्हें भी मिली है।

शासनादेश में यदि 45 फीसदी अंक वालों को पात्र माना गया है तो उन्हें भी काउंसलिंग में शामिल होने का मौका दिया जाएगा।
कहा कि यदि पहले चरण में ऐसे आवेदक काउंसलिंग से वंचित रह जाते हैं, तो उन्हें दूसरे चरण की काउंसलिंग में शामिल होने का मौका मिलेगा।

उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि इस संबंध में सोमवार को अधिकारियों से बात की जाएगी।

     खबर साभार : अमरउजाला

अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस पर बेसिक शिक्षा मंत्री मा0 राम गोविन्द चौधरी जी का संदेश-

खण्ड शिक्षा अधिकारी के अधिकार एवं कर्तव्य (आदेश दिनांक- 18 सितम्बर, 1996 )-

Saturday, August 30, 2014

शिक्षा के परिदृश्य में - क्या आप जानते हैं : विद्यालय में आरटीई एक्ट 2009 के तहत भौतिक संसाधनों की अनिवार्यता-

शिक्षा के परिदृश्‍य में - क्‍या आप जानते है ?

नि:शुल्‍क एवं बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 के तहत आपके विद्यालय में निम्‍न 10 Infrastructure (भौतिक संसाधनों) का होना अनिवार्य है, इसको पूर्ण करने के लिए केन्‍द्र सरकार एवं राज्‍य सरकार कटिबद् है।-

1-Building  - बिल्‍डिंग
2-HM room cum office cum store room -प्रधानाध्‍यापक आफिस/स्‍टोर कक्ष
3-One classroom for every teacher-प्रत्‍येक अध्‍यापक के लिए एक कक्ष
4-Ramp - नि-शक्‍त बच्‍चो के लिए रैम्‍प
5-Separate toilet for boys- बालकों के लिए अलग शौचालय
6-Separate toilet for girls - बालिकाओं के लिए अलग शौचालय
7-Drinking water facility - पानी की उपलब्‍धता
8-Kitchen shed - किचेन शेड
9-Boundary wall - वाउण्‍ड्रीवाल
10-Playground - खेलकूद मैदान
(द्वारा पुरूषोत्तम सिंह बर्मा)

05 सितम्‍बर 2014 को शिक्षक दिवस के अवसर पर मा0प्रधान मन्‍त्री जी द्वारा स्‍कूली बच्‍चों को सम्‍बोधित किये जाने के सम्‍बन्‍ध में निर्देश : साथ में बेसिक शिक्षा सचिव का निर्देश पत्र-

शिक्षक दिवस पर प्रधानमंत्री की लगेगी ‘पाठशाला’ : बच्चों को सुनवाने के निर्देश जारी : आदेश पत्र कल पोस्ट किया जा चुका है -

शिक्षक दिवस पर प्रधानमंत्री की लगेगी ‘पाठशाला’ : बच्चों को सुनवाने के निर्देश जारी : आदेश पत्र कल पोस्ट किया जा चुका है -

१-शिक्षक दिवस पर पीएम की ‘पाठशाला’

२-परिषदीय और कान्वेंट स्कूलों में लाइव टेलीकास्ट

३-पाँच सितंबर को तीन बजे से होगा प्रसारण

४-जरिया बनेगा हाईटेक संचार नेटवर्क

बरेली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक और अभिनव प्रयोग। अब वह नौनिहालों से सीधे रूबरू होंगे। वह भी पाठशाला में। यह संभव होगा, शिक्षक दिवस पर। इस रोज प्रधानमंत्री की ‘पाठशाला’ सभी माध्यम के बेसिक और माध्यमिक स्कूलों में लगेगी। जरिया बनेगा हाईटेक संचार नेटवर्क। कार्यक्रम की थीम क्या रहेगी, अभी स्पष्ट नहीं है। अलबत्ता, इतना पता चला है कि प्रधानमंत्री का भाषण प्रेरक होगा। वे बच्चों से देश की जरूरतों, उनकी भागीदारी और भविष्य का भारत बनाने पर बात करेंगे।

लोकसभा चुनाव के दौरान पहली बार जनता ने मोदी के हाईटेक प्रचार का अंदाज देखा। कभी वे थ्री डी तकनीक के जरिये लोगों के बीच अवतरित हुए, कभी चाय पर चर्चा के जरिये संवाद स्थापित किया। पीएम बनने पर भी यह सिलसिला तोड़ा नहीं। कक्षा एक से लेकर इंटर तक के सभी स्कूलों (यूपी बोर्ड, सीबीएसई, आइसीएसई) में बच्चों को मोदी का भाषण सुनाया जाएगा।

इस बाबत अपर सचिव मानव संसाधन विकास मंत्रलय वृंदा स्वरूप सभी शिक्षा बोर्डो को निर्देश जारी कर चुकी हैं। बेसिक शिक्षा निदेशक संजय सिन्हा ने पत्र का हवाला देते हुए सभी बीएसए और डीआइओएस को प्रधानमंत्री के लाइव टेलीकास्ट की तैयारी सुनिश्चित करने को कहा है। इंडिपेडेंट स्कूल एसोसिएशन बरेली की सचिव पारुष अरोड़ा के मुताबिक सभी कान्वेंट स्कूलों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। सीबीएसई ने कार्यक्रम में शामिल होने वाले बच्चों की संख्या भी मांगी है। हर संचार माध्यम के तहत बच्चों का पंजीकरण अनिवार्य है। निजी ऑपरेटरों से डीटीएच आदि की व्यवस्था की जा रही।मानव संसाधन विकास मंत्रलय के मुताबिक, प्रधानमंत्री का भाषण अपराह्न तीन बजे से पौने पांच बजे खत्म होगा। स्कूल सेटेलाइट चैनल, रेडियो, इंटरनेट और डीटीएच में से किसी भी संचार माध्यम से बच्चों को मोदी से रूबरू करा सकते हैं।

    खबर साभार : जागरण व डीएनए

प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती : अभ्यर्थी एक से ज्यादा जिले मे काउन्सलिन्ग कराने को स्वतंत्र -

प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती : अभ्यर्थी एक से ज्यादा जिले मे काउन्सलिन्ग कराने को स्वतंत्र -
         
खबर साभार : हिन्दुस्तान

‘स्कूल फार ऑल’ का खाका तैयार : एनसीईआरटी के इस खाके के तहत समावेशी स्कूल को कुछ मापदंड को पूरा करना होगा

‘स्कूल फार ऑल’ का खाका तैयार : एनसीईआरटी के इस खाके के तहत समावेशी स्कूल को कुछ मापदंड को पूरा करना होगा

नई दिल्ली (भाषा)। देश के कई स्थानों पर शिक्षा में जाति, लिंग, वर्ग, अशक्तता, धर्म आदि के आधार पर भेदभाव की घटनाओं के बीच शिक्षा की वर्तमान व्यवस्था में सुधार की जरूरत को रेखांकित करते हुए एनसीईआरटी की ‘स्कूल फार ऑल’ योजना का खाका तैयार किया गया है। एनसीईआरटी की विशेष जरूरतों वाले समूह की शिक्षा से संबंधित विभाग के तहत तैयार ‘समावेशी स्कूल का विकास’ रिपोर्ट में ‘स्कूल फार ऑल’ ( सभी के लिए स्कूल) का खाका पेश किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, ‘सभी के लिए स्कूल’ अवधारणा के तहत समावेशी स्कूल को कुछ मापदंड को पूरा करना चाहिए।

यह देखना महत्वपूर्ण होगा कि स्कूल ने दृष्टिपत्र तैयार करके इसे समुदाय के साथ साझा किया है या नहीं। स्कूल का दृष्टिपत्र, समझ, मिशन और लक्ष्य समुदाय के कितने अनुरूप हैं। स्कूल के दृष्टिपत्र को छात्रों की विभिन्नताओं को स्वीकार करना और उन्हें महत्व देना चाहिए। स्कूल में गरीब परिवार के बच्चों को सहयोग करने की नीति और कार्यक्रम तैयार करना चाहिए।

शिक्षकों, समुदायों, अभिभावकों को स्कूल के समावेशी शिक्षा की नीति में विास होना चाहिए। एनसीईआरटी का कहना है कि आजादी के बाद से देश के 10 लाख स्कूलों में करीब 55 लाख शिक्षक 2,025 लाख छात्रों को पढ़ाते हैं। 80 प्रतिशत आबादी में करीब एक किलोमीटर के दायरे में प्राथमिक स्कूल है। लेकिन इसके बाद भी प्राथमिक स्तर पर करीब आधे बच्चों के बीच में ही पढ़ाई छोड़ने की बात सामने आई है।

    खबर साभार : राष्ट्रीय सहारा

प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती में गड़बड़ियों का अम्बार : मेरिट लिस्ट से नाम गायब, अभ्यर्थी हुए परेशान-

प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती में गड़बड़ियों का अम्बार : मेरिट लिस्ट से नाम गायब, अभ्यर्थी हुए परेशान-

>डायट व एससीआरटी के चक्कर लगाते दिखे अभ्यर्थी
>दोबारा प्रत्यावेदन में भी दी गलत जानकारी
>फार्म भरी सीतापुर से नाम आया गाजीपुर से

376 को बुलाया, पहुंचे मात्र 33 : 72825 शिक्षकों की भर्ती -

376 को बुलाया, पहुंचे मात्र 33 : 72825 शिक्षकों की भर्ती -

जागरण संवाददाता, इलाहाबाद : लंबी जिद्दोजहद के बाद आरंभ हुई परिषदीय स्कूलों में 72825 शिक्षकों की भर्ती की काउंसिलिंग को लेकर अभ्यर्थियों में उदासीनता नजर आई।
जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) में पहले दिन 376 में मात्र 33 अभ्यर्थियों ने काउंसिलिंग कराई। काउंसिलिंग के दूसरे दिन शनिवार को सामान्य व ओबीसी की 520 महिला अभ्यर्थियों को बुलाया गया है।

राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने काउंसिलिंग के लिए जिलेवार कटऑफ मेरिट जारी की है। इसके तहत इलाहाबाद में 1500 सीटों की काउंसिलिंग होनी है। शुक्रवार को सुबह दस बजे डायट में काउंसिलिंग शुरू हुई। पहले दिन पुरुष शिक्षामित्र के 76 में चार, महिला शिक्षामित्र के 57 में छह, सभी श्रेणी के विकलांगों के 41 में तीन, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व पूर्व सैनिक के 61 में चार, एससी महिला कला के 70 में 12 व एससी महिला विज्ञान वर्ग की 69 में चार अभ्यर्थी काउंसिलिंग कराने पहुंचे। अभ्यर्थियों की सुविधा के लिए डायट में सात काउंटर बनाए गए हैं। जहां अभ्यर्थियों की सभी शैक्षिक, प्रशिक्षण, आरक्षण/विशेष आरक्षण, निवास प्रमाणपत्र, पहचान प्रमाणपत्रों की जांच की जा रही है।

बीटीसी : निजी कॉलेजों में खत्म होगा फीस का अंतर-

बीटीसी : निजी कॉलेजों में खत्म होगा फीस का अंतर-

१-41 हजार रुपये फीस निजी कॉलेजों में करने की तैयारी

२- फ्री व पेड सीटों में अभी अलग-अलग है फीस

लखनऊ। बीटीसी के निजी कॉलेजों में फ्री व पेड सीटों में फीस के अंतर को सरकार खत्म करने जा रही है। अब निजी कॉलेजों में दोनों सीटों की एक समान फीस करते हुए 41 हजार रुपये करने की तैयारी है। अभी निजी कॉलेजों में फ्री सीट पर 22 हजार व पेड सीट के लिए 44 हजार रुपये लिए जा रहे हैं। सरकारी सीटों पर भी 4,600 रुपये फीस बढ़ाने पर सरकार विचार कर रही है।
सचिव बेसिक शिक्षा एचएल गुप्ता की अध्यक्षता में शुक्रवार को फीस निर्धारण कमेटी की बैठक हुई। इसमें निजी बीटीसी कॉलेजों में फ्री व पेड सीटों की फीस खत्म कर एक समान फीस करने पर सहमति बन गई है। प्रदेश में 710 निजी कॉलेज हैं। प्रत्येक कॉलेज में 50 बीटीसी की सीटें हैं। सरकार के इस फैसले से निजी कॉलेजों को काफी फायदा होगा।

सरकारी सीटों की बढ़ाई जा सकती है फीस-

फीस निर्धारण समिति की बैठक में बीटीसी की सरकारी सीटों की भी फीस बढ़ाये जाने पर चर्चा हुई। इसमें कहा गया कि सरकारी सीटों में अभी भी काफी कम फीस ली जा रही है। इसे भी कुछ बढ़ाया जा सकता है। यह फीस कितनी बढ़ेगी यह अभी तय नहीं हुआ है। हालांकि यह तय हो गया कि बीटीसी की सरकारी सीटों पर फीस बढ़ेगी। प्रदेश में सरकारी 10,450 सीटें हैं। कुछ ही दिनों में फीस निर्धारण समिति के फैसलों पर सरकार आदेश जारी करेगी।

             खबर साभार : अमरउजाला

Friday, August 29, 2014

शैक्षिक परिदृश्‍य में - क्‍या आप जानते है ?

शैक्षिक परिदृश्‍य में - क्‍या आप जानते है ?

प्रदेश के प्रथम चरण में इटावा सहित 06 जनपदों में समस्‍त परिषदीय प्राथमिक एवं उ0प्राथमिक विद्यालयों में जी0आई0एस0 (GIS) के आधार पर समस्‍त विद्यालयों का चिन्‍हाकंन का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। इस योजना के तहत समस्‍त विद्यालयों को इन्‍टरनेट एवं जी0पी0एस0 के आधार पर आसानी से देखा जा सकेगा।

उक्‍त विद्यालय पर क्लिक करने से उस विद्यालय की फोटो सहित समस्‍त कार्यरत अध्‍यापक, बच्‍चों सहित समस्‍त जानकारी प्राप्‍त होगी। उक्‍त योजना से जिन विद्यालयों में विद्यालय नहीं है, उस मजरे का आसानी से सर्वे किया जा सकेगा। अगले चरण में अन्‍य जनपदों को इस योजना में सम्मिलित करने की प्रक्रिया गतिमान है।

संतकबीर नगर में मेरिट सबसे कम : 72,825 शिक्षक भर्ती

संतकबीर नगर में मेरिट सबसे कम : 72,825 शिक्षक भर्ती
Fri, 29 Aug 2014 04:50 PM (IST)

लखनऊ (राज्य ब्यूरो)। परिषदीय स्कूलों में 72,825 शिक्षकों की भर्ती के लिए राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने मेरिट कल शाम को ऑनलाइन जारी कर दिया। कला वर्ग में महिला का सबसे कम मेरिट संतकबीरनगर जिले में 119 और पुरुष अभ्यर्थियों का लखीमपुर खीरी व संतकबीर नगर में 127 मेरिट अंक रहा। महिलाओं का सर्वाधिक फतेहपुर और गौतमबुद्धनगर में 147 रहा जबकि पुरुष का सर्वाधिक गाजियाबाद और मेरठ में 139 मेरिट अंक रहा।

आवेदकों की संख्या 69 लाख से अधिक होने की वजह से पहले चरण में अभ्यर्थियों को एक जिले में ही काउंसिलिंग का मौका दिया गया। अब इसी आधार पर अभ्यर्थी जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों (डायट) में 29 से 31 अगस्त तक पहले चरण की काउंसिलिंग करा सकेंगे।

एससीईआरटी ने कल दोपहर 12 बजे से वेबसाइट पर कट ऑफ मेरिट जारी करने का एलान किया था लेकिन तकनीकी कारणों से शाम चार बजे कट ऑफ मेरिट जारी किया जा सका। इस बीच मेरिट अंक देखने के लिए अभ्यर्थी जूझते रहे। एससीईआरटी की जारी मेरिट सूची में तमाम त्रुटियां भी सामने आई हैं। कई के कम अंक होने के बावजूद कॉल लेटर जारी कर दिया गया है, जिसे लेकर अभ्यर्थी असमंजस में हैं।

अभ्यर्थियों को मेरिट देखने के लिए टीईटी-2011 का रोल नंबर दर्ज करना होगा। कट ऑफ मेरिट के तहत अभ्यर्थियों की सूची डायट में भी उपलब्ध है। काउंसिलिंग को लेकर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत पहले चरण में 29 अगस्त को सभी विकलांग, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी आश्रित, भूतपूर्व सैनिक श्रेणी के अभ्यर्थियों, अनुसूचित जाति/जनजाति की महिला अभ्यर्थियों और शिक्षामित्रों की काउंसिलिंग होगी। 30 अगस्त को उपर्युक्त श्रेणियों को छोड़ सभी महिला अभ्यर्थियों और 31 तारीख को पुरुष अभ्यर्थियों की काउंसिलिंग होगी।

तय किये गए कार्यक्रम के अनुसार अभ्यर्थी को अपने आवेदित जिले के डायट में निर्धारित तारीख को दिन में दस बजे से सभी शैक्षिक, प्रशिक्षण, आरक्षण/विशेष आरक्षण, निवास प्रमाणपत्र, पहचान प्रमाणपत्रों, उनकी स्वहस्ताक्षरित फोटोकॉपी, पासपोर्ट आकार की अपनी दो नवीनतम रंगीन फोटो के साथ काउंसिलिंग के लिए उपस्थित होना पड़ेगा।

    खबर साभार : जागरण

शैक्षिक परिदृश्‍य में क्‍या आप जानते है : स्कूलों में छात्र/छात्राओं के लिए अलग-2 शौचालय

शैक्षिक परिदृश्‍य में क्‍या आप जानते है : स्कूलों में छात्र/छात्राओं के लिए अलग-2 शौचालय

•अपने जनपद के बेसिक शिक्षाधिकारी/खण्ड शिक्षाधिकारी से सम्पर्क कर प्रस्ताव भेजे

मा0 प्रधानमन्‍त्री श्री नरेन्‍द्र मोदी जी द्वारा देश के समस्‍त सरकारी /सहायतित विद्यालयों में अध्‍ययनरत छात्र- छात्राओं के लिए अनिवार्य रूप से कम से कम एक-एक शौचालय (अलग-अलग) होने का लक्ष्‍य सुनिश्चित किया गया है। इसका पूर्ण करने का लक्ष्‍य 31 मार्च 2015 रखा गया है। यदि यह सुविधा आपके विद्यालय में नहीं है, तो आप इस सम्‍बन्‍ध में अपने जनपद के बेसिक शिक्षा अधिकारी/खण्‍ड शिक्षा अधिकारी से सम्‍पर्क कर अपना प्रस्‍ताव भेज सकते है।

सात शिक्षकों को राज्य अध्यापक पुरस्कार : साथ में आदेश पत्र

सात शिक्षकों को राज्य अध्यापक पुरस्कार

लखनऊ। राज्य सरकार ने माध्यमिक शिक्षा परिषद के सात शिक्षकों को राज्य अध्यापक पुरस्कार देने का फैसला किया है। प्रधानाचार्य राजा राम महिला इंटर कॉलेज बदायूं की सुषमा कथूरिया, प्रधानाचार्य भैया हरिमान दत्त इंटर कॉलेज धानेपुर गोंडा के प्रेम नारायण सिंह, प्रधानाचार्य जैन इंटर कॉलेज रामपुर के डॉ. प्रेम स्वरूप शर्मा, प्रधानाचार्य कर्नल ईश्वरी सिंह इंटर कॉलेज टेकपुर जालौन के डा. सुरेंद्र प्रताप कुलश्रेष्ठ, सहायक अध्यापक किसान इंटर कॉलेज बभनान बस्ती के राधेश्याम वर्मा, प्रधानाचार्य कन्या विद्यापीठ इंटर कॉलेज कायमगंज फर्रुखाबाद की सुनीता सचान तथा शिक्षक प्रशिक्षक प्रवक्ता डायट सैदपुर गाजीपुर के राम अवतार सिंह को राज्य अध्यापक पुरस्कार दिया जाएगा।

     साभार : अमरउजाला

72,825 बी0एड0 भर्ती के सम्‍बन्‍ध में विज्ञापन की प्रति -

चार घण्टे बाद खुली प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती वाली वेबसाइट : आखिरी प्रक्रिया के तहत 29 से तीन दिन तक होगी काउंसलिंग-

चार घण्टे बाद खुली प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती वाली वेबसाइट : आखिरी प्रक्रिया के तहत 29 से तीन दिन तक होगी काउंसलिंग-

लखनऊ (एसएनबी)। प्रदेश में 72825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती की आखिरी प्रक्रिया के तहत काउंसलिंग 29 अगस्त से तीन दिनों तक होगी। इसके लिए कट आफ मेरिट बुधवार को ही घोषित कर दी गयी थी, लेकिन काउंसलिंग के लिए अपनी वरीयता का स्टेटस जानने के लिए अभ्यर्थियों को चार घण्टे का इंतजार करना पड़ा।

शिक्षक भर्ती के लिए एक-एक अभ्यर्थी ने 40- 40 जिलों में आवेदन कर रखा है, लेकिन टीईटी की मेरिट को आधार बनाकर जारी की गयी वरीयता में अब भी उहापोह बरकरार है। एक जिले में वरीयता तो सभी अभ्यर्थियों की जारी की गयी है, लेकिन काउंसलिंग में रिक्तयों की संख्या के आधार पर ही अभ्यर्थियों को शामिल कराया जाएगा। काउंसलिंग के लिए विभाग की ओर से किसी अभ्यर्थी के पास कोई सूचना नहीं है। इस दुविधा को लेकर भी राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद के बाहर अभ्यर्थियों का जमावड़ा लगा रहा। उनका कहना था कि भर्ती कराने वाला विभाग कोई जानकारी देने को तैयार नहीं है, जबकि खबरों में सीटों के दो गुने अभ्यर्थियों के बुलाये जाने की बात पता चल रही है।

फिलहाल परिषद के निदेशक सव्रेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह ने शासन में जाकर वेबसाइट पर वरीयता मेरिट अपलोड होने की जानकारी दी और डायट प्राचायरे को पत्र भेजकर 29 से काउंसलिंग शुरू कराने का निर्देश दिया गया है। पहले दिन काउंसलिंग में ज्यादा अभ्यर्थी शामिल नहीं होंगे। दूसरे दिन ओबीसी व सामान्य श्रेणी की महिला अभ्यर्थियों व तीसरे दिन इन्हीं श्रेणी के पुरु ष आवेदकों की काउंसलिंग होगी।

      खबर साभार : राष्ट्रीय सहारा

    

हर चौथे आवेदक को मिलेगी प्रशिक्षु शिक्षक की नौकरी : 72,825 शिक्षकों की भर्ती का मामला-

हर चौथे आवेदक को मिलेगी प्रशिक्षु शिक्षक की नौकरी : 72,825 शिक्षकों की भर्ती का मामला-

लखनऊ (एसएनबी)। इस बार प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती में आवेदन करने वाले हर चौथे दावेदार को नौकरी मिलेगी। टीईटी की मेरिट से होने वाली भर्ती में र्थड डिवीजनरों की नैय्या भी पार हो जाएगी। प्रदेश में प्राथमिक स्कूलों में होने वाली भर्ती के लिए टीईटी परीक्षा 2011 में हुई थी। तब दो स्तरों की परीक्षा करायी गयी। इसमें प्राथमिक स्कूलों में शिक्षक पदों के लिए टीईटी में 2.53 लाख अभ्यर्थी उत्तीर्ण हुए थे। इन्हीं आवेदकों ने 72825 शिक्षकों की भर्ती के लिए दो बार में आवेदन किया और आवेदकों की संख्या 68 लाख के पार कर गयी।

आवेदन पत्रों की लिहाज से तो एक सीट पर मुकाबला काफी कड़ा है, लेकिन आवेदकों की वास्तविक संख्या में एक सीट पर साढ़े तीन दावेदार ही बनते हैं, ऐसे में हर चौथे दावेदार का चयन होना तय है। इसके बाद भी बेरोजगारों की भीड़ को नौकरी मिलने का भरोसा नहीं है। तीन दिनों की काउंसलिंग में तो सभी को शामिल नहीं किया जा सकेगा। पहले चरण की काउंसलिंग के बाद बड़ी संख्या में रिक्तयां खाली रहनी तय है। इसकी वजह है कि एक अभ्यर्थी एक दिन में सिर्फ एक ही जिले में काउंसलिंग में शामिल हो सकेगा और बाकी जगहों पर वह मेरिट में होने के बाद भी भर्ती प्रक्रिया में भागीदारी नहीं कर सकेगा।

ऐसे में रिक्तयों के आधार पर बुलाये गये अभ्यर्थियों की काउंसलिंग होने के बाद भी सीटें खाली रहनी तय है और विभाग भी इसको पहले चरण की काउंसलिंग ही मानकर चल रहा है। टीईटी की मेरिट से होने वाली इस भर्ती में शैक्षिक मानकों का कोई आधार नहीं रखा गया है। टीईटी 2011 की परीक्षा में आरक्षित श्रेणी के तमाम अभ्यर्थी र्थड डिवीजन के ही पास हो गये थे। अब उन्हें सूबे में मास्टरी करने का मौका मिल जाएगा। इस मुद्दे को लेकर विभाग के अधिकारी वैसे तो कुछ बोलने से मना कर रहे हैं, लेकिन भर्ती करने वाली परिषद के निदेशक सव्रेन्द्र विक्रम का कहना है कि वास्तविक आवेदकों के बारे में तो स्थिति साफ है। नौकरी पक्की करने के चलते आवेदकों की भीड़ बढ़ी है।

    खबर साभार : राष्ट्रीय सहारा

RECENT POSTS

BASIC SHIKSHA NEWS, PRIMARY KA MASTER : अभी तक की सभी खबरें/आदेश/निर्देश/सर्कुलर/पोस्ट्स एक साथ एक जगह, बेसिक शिक्षा न्यूज ● कॉम के साथ क्लिक कर पढ़ें ।

BASIC SHIKSHA NEWS, PRIMARY KA MASTER : अभी तक की सभी खबरें/ आदेश / निर्देश / सर्कुलर / पोस्ट्स एक साथ एक जगह , बेसिक शिक्षा न्यूज ●...